बिहार क्रिकेट लीग को लेकर BCCI के सामने उतरी बीसीए, जानें क्या है विवाद

Bihar Cricket league Controversy BCCI vs Bihar Cricket association ready to face each other over tournament: नई दिल्ली। राज्य क्रिकेट संघ के तहत अगर किसी बोर्ड को सबसे ज्यादा विवादित बोर्ड कहा जाये तो इसमें बिना किसी शक के बिहार क्रिकेट एसोसिएशन का नाम आयेगा जो कि अक्सर अपनी नीतियों के चलते बीसीसीआई से टकराव की स्थिति में देखा जाता है। लगभग एक दशक से ज्यादा समय तक बीसीसीआई की ओर से बोर्ड की मान्यता छीन लिये जाने के बाद जैसे ही बिहार क्रिकेट एसोसिएशन को दोबार मान्यता देने की ओर कदम बढ़ाने की पहल की जा रही थी, उसी बीच बीसीए ने बोर्ड से गैर मान्यता प्राप्त बिहार क्रिकेट लीग टी20 टूर्नामेंट के लिये खिलाड़ियों की नीलामी का आयोजन कर नये विवाद को जन्म दे दिया है।

इस विवाद के सामने आने से पहले ही बीसीसीआई की एंटी करप्शन समिति ने साफ किया है कि किसी भी राज्य में टी20 लीग को हरी झंडी देने से पहले बोर्ड की ओर से सख्त गाइडलाइंस जारी किये जाने चाहिये और नीलामी से पहले बोर्ड से परमिशन भी जरूरी है। हालांकि बिहरा क्रिकेट संघ ने शनिवार (28 फरवरी) को खिलाड़ियों की नीलामी का आयोजन बिना परमिशन के किया।

AUS vs NZ: एश्टन एगर ने लगाया विकेटों का 'छक्का', खास क्लब में शामिल हो नाम किया बड़ा रिकॉर्ड

बिहार क्रिकेट लीग के प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार यह टूर्नामेंट 5 टीमों (अंगिका एवेंजर्स, भागलपुर बुल्स, दरभंगा डायमंड्स, गया ग्लैडिएटर्स और पटना पायलट्स) के बीच 21 से 27 मार्च के बीच खेला जाना है जिसका लाइव टेलिकास्ट निजी स्पोर्टस चैनल पर किया जाना है। इस नीलामी में हर प्लेयर की कीमत 50 हजार रुपये रखी गई थी।

राज्यस्तरीय लीग को मंजूरी देने से जुड़े एक बोर्ड के अधिकारी के अनुार बिहार क्रिकेट संघ को 28 फरवरी की शाम तक किसी भी तरह की टी20 लीग के आयोजन की मंजूरी नहीं दी गई थी। वहीं जब इस मामले को लेकर बीसीए के अध्यक्ष राकेश तिवारी से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि संघ ने बोर्ड के पास मंजूरी के लिये आवेदन किया है।

IPL नीलामी में इतना पैसा मिलने से हैरान है ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी, कहा- नहीं थी बेस प्राइस पर भी बिकने की उम्मीद

उन्होंने कहा, 'हमने अपनी ओर से बोर्ड से इसे आयोजित करने के लिये आवेदन किया है, हालांकि काफी समय बीत जाने के बाद भी बीसीसीआई से हमें अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। हम एक महीने से ज्यादा समय से इंतजार कर रहे हैं और ज्यादा लंबा इंतजार नहीं कर सकते थे।'

आपको बता दें कि कर्नाटक प्रीमियर लीग और तमिलनाडु प्रीमियर लीग के आयोजन के दौरान भ्रष्टाचार और फिक्सिंग से जुड़े मामले सामने आने के बाद बोर्ड राज्यस्तरीय लीग को मंजूरी देने को लेकर सावधानी बरत रहा है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Read more about: bcci bihar cricket cricket news t20
Story first published: Wednesday, March 3, 2021, 23:36 [IST]
Other articles published on Mar 3, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X