B'day Special : पिछले 17 साल से नहीं टूटा जवागल का रिकाॅर्ड, जानें उनसे जुड़ी रोचक बातें

नई दिल्ली। भारत के पूर्व तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ का आज 51 वां जन्मदिन है। जवागल श्रीनाथ का जन्म 31 अगस्त 1969 को कर्नाटक के मैसूर में हुआ था। 90 के दशक में, यह खिलाड़ी भारतीय गेंदबाजी का नेतृत्व करने में सक्षम था। उन्होंने भारत के लिए 67 टेस्ट मैचों में 236 और 229 वनडे मैचों में 315 विकेट लिए हैं। आइए जानें भारत के इस महान गेंदबाज के बारे में कुछ रोचक बातें-

1. श्रीनाथ ने 1989 में हैदराबाद के खिलाफ अपने डेब्यू रणजी ट्रॉफी मैच की पहली पारी में हैट्रिक ली थी। उन्होंने इस पारी में 85 रन देकर 5 विकेट भी लिए और 7 विकेट लेकर मैच में पदार्पण किया।

CPL 2020 : निकोलक पूरण ने महज 45 गेंदों में ठोका शतक, खूब हुई छक्कों की बरसात

 नहीं टूटा ये रिकाॅर्ड

नहीं टूटा ये रिकाॅर्ड

2. वह भारत की ओर से वनडे में दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। उन्होंने 229 एकदिवसीय मैचों में 315 विकेट लिए हैं जबकि कुंबले ने एकदिवसीय मैचों में 334 विकेट लिए हैं। इसके अलावा वह एकदिवसीय मैच में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज हैं। उनका यह रिकाॅर्ड 17 साल से नहीं टूटा है। जगवाल ने 2003 में क्रिकेट खेलना छोड़ा था। तब से लेकर कोई भी तेज भारतीय गेंदबाज उनके पास नहीं पहुंच सका है।

3. श्रीनाथ एक उदारवादी और शांत खिलाड़ी के रूप में जाने जाते थे। उन्होंने गेंदबाजी करते हुए कभी किसी को नाराज नहीं किया। वेलिंगटन टेस्ट में, जब एक उछलती हुई गेंद स्टीफन फ्लेमिंग के हेलमेट से टकराई, तो फ्लेमिंग को लगा कि श्रीनाथ स्लेजिंग कर रहे हैं। इसलिए जब वह श्रीनाथ के पास पहुंचा और बहस करने लगा, तो श्रीनाथ ने उससे कहा कि वह पूछ रहा है, "क्या तुम ठीक हो या नहीं?" ये दोनों खिलाड़ी विश्व क्रिकेट में एक आदर्श खिलाड़ी के रूप में जाने गए।

2007 में की थी दूसरी शादी

2007 में की थी दूसरी शादी

4. श्रीनाथ ने पहली बार 1999 में शादी की लेकिन पहली शादी के कुछ साल बाद दोनों की सहमति से तलाक हो गया। बाद में 2007 में, उन्होंने पत्रकार माधवी पतरावली से शादी कर ली।

5. अनिल कुंबले की टेस्ट पारी में 10 विकेट लेने के पीछे जवागल का हाथ रहा है। कुंबले ने पाकिस्तान के खिलाफ 9 विकेट ले लिए थे। उनका ओवर खत्म हुआ तो जवागल आए, लेकिन वो नहीं चाहते थे कि उन्हें कोई विकेट मिले। ऐसे में जवागल ने स्टंप के बाहर गेंद फेंकना शुरू किया ताकि उन्हें विकेट ना मिले। फिर इसके बाद कुंबले ओवर करने आए, जिन्होंने 10वां विकेट लेकर इतिहाच रचा था।

क्रिकेटर ऑफ द ईयर भी चुने गए

क्रिकेटर ऑफ द ईयर भी चुने गए

6. 1991 में भारतीय टीम के लिए पदार्पण करने वाले श्रीनाथ को 1992 में इंडियन क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया।

7. श्रीनाथ को खेल के क्षेत्र में 1996 में प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

8. आखिरी बार 2003 में खेलने वाले श्रीनाथ ने 2006 में फिर से क्रिकेट खेलना शुरू किया लेकिन इस बार जिम्मेदारी अलग थी। इस बार उन्होंने आईसीसी मैच अधिकारी के रूप में काम करना शुरू किया। उन्होंने 342 मैचों में अंपायरिंग की है। आज तक, केवल 7 भारतीयों ने इस जिम्मेदारी को पूरा किया है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Monday, August 31, 2020, 13:50 [IST]
Other articles published on Aug 31, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X