पिता-बेटे की जोड़ी का कमाल, क्रिस और स्टुअर्ट ब्रॉड ने लगाई क्रिकेट में पहली अनोखी हैट्रिक

नई दिल्ली: स्टुअर्ट ब्रॉड का प्रदर्शन इस समय टॉप पर चल रहा है। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच जिताने वाले प्रदर्शन के बाद अपनी गेंदबाजी का कहर पाकिस्तान पर भी जारी रखा है। इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच ओल्ड ट्रेफर्ड, मैनचेस्टर में 3 मैचों की सीरीज का पहल टेस्ट चल रहा है जहां शुरुआती मजबूती के बाद पाकिस्तानी की टीम दूसरी पारी में धराशाई होती दिखाई दे रही है और उसके 8 विकेट केवल 137 रन बनाकर गिर चुके हैं। पहली पारी के आधार पर 100 से ऊपर की बढ़त लेने वाली पाकिस्तान अब 244 रनों की ही लीड हासिल कर पाई है।

पिता-बेटे ने क्रिकेट में पहली बार किया कमाल-

पिता-बेटे ने क्रिकेट में पहली बार किया कमाल-

हालांकि पिच की चुनौतियों को देखते हुए इंग्लैंड के बल्लेबाजों के लिए 250 से ऊपर का लक्ष्य पाना चौथी पारी में काफी जटिल होने जा रहा है लेकिन एक बार फिर तारीफ करनी होगी ब्रॉड की जिन्होंने पहली पारी में 3 विकेट चटकाने के बाद दूसरी पारी में अब तक दो विकेट ले लिए हैं और उनके पास अभी एक दो विकेट चटकाने का मौका है।

'ये टीम का अपमानजनक बर्ताव और सरफराज की कमजोरी है'- पूर्व कप्तान को जूते उठाते देख अख्तर हुए नाराज

विंडीज के खिलाफ सीरीज में 500 टेस्ट विकेट लेने का कारनामा करने वाले ब्रॉड ने पाकिस्तान के खिलाफ पहले टेस्ट में एक अनोखी हैट्रिक भी लगा दी है।

टेस्ट मैच में रेफरी और खिलाड़ी बने पिता-पुत्र

टेस्ट मैच में रेफरी और खिलाड़ी बने पिता-पुत्र

ब्रॉड ने इस बार यह कारनामा अपने पिता के साथ मिलकर किया है। उनके पिता का नाम क्रिस ब्रॉड हैं और वे वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के 2 मैचों में मैच रेफरी की भूमिका निभा चुके हैं। वे पाकिस्तान के खिलाफ पहले टेस्ट में भी मैच रेफरी हैं। और यह लगातार तीसरे अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच में पिता और बेटा साथ नजर आ रहे हैं। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह पहली बार है जब पिता रेफरी और बेटा क्रिकेटर के रूप में खेल रहा है।

क्रिकेट में अन्य ऐसे मिलते-जुलते उदाहरण

क्रिकेट में अन्य ऐसे मिलते-जुलते उदाहरण

अंतरराष्ट्रीय मैच में रेफरी और खिलाड़ी के रूप में शामिल होने वाली ये पहली पिता-पुत्र की जोड़ी बन गई। इससे पहले एक खिलाड़ी और उसके पिता या भाई के कुछ अन्य उदाहरण हैं जो विभिन्न आधिकारिक भूमिका निभा चुके हैं। ऐसा आखिरी उदाहरण 2006 में था जब हितेश मोदी ने खेला था और उनके पिता सुभाष मोदी अंपायर थे। तीन बार सुभाष ऑन-फील्ड अंपायर थे और एक बार टीवी अंपायर जब उनका बेटा केन्या के लिए 2001 और 2006 के बीच खेला था। मोदी जोड़ी से पहले 1994 में पॉल स्ट्रैंग के डेब्यू टेस्ट में उनके पिता, रोनाल्ड स्ट्रेंग, टीवी अंपायर थे। 1978 में, अजमत राणा के वनडे डेब्यू में, उनके भाई शकूर राणा ऑन-फील्ड अंपायर थे। 1880 के दशक के उत्तरार्ध में, एलेक बैनरमैन के भाई चार्ल्स दो टेस्ट मैचों में मैदानी अंपायर थे।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, August 8, 2020, 9:12 [IST]
Other articles published on Aug 8, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X