ऋषभ पंत के बनाए चार बड़े रिकॉर्ड जो अब तक धोनी भी नहीं बना सके

नई दिल्ली: लॉकडाउन के चलते अगर आईपीएल पर जो असर पड़ा है उसने भारत के दो विकेटकीपरों के करियर पर अभी रहस्य का पर्दा बनाए रखा है। ये विकेटकीपर हैं- महेंद्र सिंह धोनी और ऋषभ पंत। धोनी जहां संन्यास से पहले एक टी 20 विश्व कप खेल सकते थे और इस आईपीएल में अपनी फॉर्म को हथियार बना सकते थे तो वहीं पंत के सामने यह बताने का सुनहरा अवसर था कि क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में वे केएल राहुल से किसी भी मायने में कमतर नहीं साबित होंगे।

खैर आईपीएल अभी भी होने की संभावना है और टी20 वर्ल्ड कप के लिए भी आईसीसी इन्तजार करो और देखो वाली नीति पर बंधा है। लेकिन इन देरियों ने एक बार फिर से सवाल बरकरार रखा है कि पंत और धोनी का इंटरनेशनल करियर अब कैसा होने जा रहा है। इसी बीच हम आपके सामने पंत के ऐसे चार टेस्ट रिकॉर्ड प्रस्तुत करने जा रहे हैं जो धोनी भी नहीं बना सके हैं-

1. इंग्लैंड में लगाया था शतक

1. इंग्लैंड में लगाया था शतक

इसमें कोई शक नहीं कि पंत में शानदार प्रतिभा है और इसके गवाह उनके ये चार बड़े टेस्ट रिकॉर्ड भी हैं जो धोनी भी नहीं बना पाए थे। जहां तक ​​टेस्ट फॉर्मेट की बात है तो महेंद्र सिंह धोनी के लिए विदेशों में शतक बनाना हमेशा से एक सपना रहा जिसको पंत ने टेस्ट करियर की शुरुआत में ही हासिल कर लिया। ऋषभ पंत ने अपने पहले विदेशी दौरे में शतक जड़ा, जो इंग्लैंड के कड़े मुकाबले के खिलाफ था। ऋषभ पंत अपना तीसरा टेस्ट मैच खेल रहे थे और उन्होंने मुश्किल सीरीज के अंतिम टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ भारत के लिए शानदार शतक बनाया। ऋषभ पंत ने उस मैच में 114 रनों की पारी खेली।

अफरीदी के कोरोना होने को बताया 'कुकर्मों की सजा', भड़के आकाश चोपड़ा ने दिया फिर ये जवाब

ऑस्ट्रेलिया में भी शतक-

ऑस्ट्रेलिया में भी शतक-

ऋषभ पंत ने इंग्लैंड में एक शानदार शतक लगाने के बाद, फिर से टीम के लिए ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर शतक लगाया जबकि उस समय कंगारू टीम में मिशेल स्टार्क, जोश हेज़लवुड और पैट कमिंस शामिल थे। दूसरी ओर, एमएस धोनी का ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारतीय परिस्थितियों और विदेशों में शानदार प्रदर्शन रहा है लेकिन, यह सफेद गेंद के प्रारूप में हुआ है। लेकिन दुर्भाग्य से लाल गेंद के खेल में ऑस्ट्रेलियाई परिस्थितियों में माही वैसा कारनामा नहीं दोहरा सके।

सबसे तेज 50 टेस्ट शिकार

सबसे तेज 50 टेस्ट शिकार

महेंद्र सिंह धोनी की कीपिंग काबिलियत के सामने अभी पंत बच्चे हैं। धोनी ने जहीर खान, अनिल कुंबले, हरभजन सिंह जैसे महान गेंदबाजों को विकेट दिलाने में मदद की। धोनी ने इसके बावजूद टेस्ट प्रारूप में अपने 50 शिकार आउट होने तक पहुंचने के लिए 15 टेस्ट मैच खेले। इस बीच, ऋषभ पंत ने सिर्फ 11 टेस्ट मैचों में 50 आउट करने का रिकॉर्ड बनाया। हालांकि यह गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन है, लेकिन इसमें शक नहीं कि पंत ने अपने करियर की शुरुआत में धोनी की तुलना कहीं तेजी से विकेट के पीछे विकेट चटकाने में भूमिका निभाई।

मोहम्मद शमी ने बताया भारतीय तेज गेंदबाजी की सफलता में 140 kph का क्या है रोल

एक सीरीज में सबसे ज्यादा कैच

एक सीरीज में सबसे ज्यादा कैच

ऋषभ पंत ने बल्लेबाजी के अलावा विकेटों के पीछे शानदार प्रदर्शन किया है और पूर्व कप्तान के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है। यह इस उम्र में पंत के लिए एक बड़ी उपलब्धि है जो उन्हें भविष्य में और अधिक आत्मविश्वास और लक्ष्य को बढ़ाने में मदद कर सकती है। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक टेस्ट सीरीज में 20 कैच पकड़े जो एक भारतीय विकेट-कीपर द्वारा सबसे अधिक कैच पकड़ने का रिकॉर्ड रहा। यह कुछ ऐसा है जो अपने शानदार करियर में धोनी नहीं कर पाए।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Sunday, June 14, 2020, 13:43 [IST]
Other articles published on Jun 14, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X