दिग्गज जेम्स एंडरसन ने बताया, कैसे इतनी उम्र के बाद भी शानदार बॉलिंग करते जा रहे हैं

लीड्स: इंग्लैंड के दिग्गज तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन का कहना है कि वे नेट में अपने टाइम को बचाकर टेस्ट मैचों में प्रदर्शन करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ समय देते हैं और ये इतने लंबे तक क्रिकेट में सक्रिय रहने का उनका एक सीक्रेट है। एंडरसन इंग्लैंड के एक मास्टर तेज गेंदबाज हैं जिन्होंने हेडिंग्ले के दूसरे टेस्ट के दौरान 8 ओवर में 5 मेडन फेंकते हुए केवल 6 रन दिए और 3 विकेट लेकर फिर से परचम लहराया। यहां भारतीय टीम केवल 78 रन पर ऑल आउट हो गई।

एंडरसन कहते हैं कि जैसे जैसे वे बुढ़े हो रहे हैं तो उनको जिम में थोड़ा और अधिक समय बिताने की जरूरत पड़ती है हालांकि वे अब नेट में पहले की तुलना में कम बॉलिंग करते हैं और टेस्ट मैचों में ऊर्जा को बचा कर रखते हैं। एंडरसन कहते हैं कि टेस्ट क्रिकेट मानसिकता का गेम है जहां आपको लंबे स्पैल करने के लिए बड़े मैचों में तैयार रहना होता है। उन्होंने साथ ही बताया कि जब मैच होता है तो उनका हिसाब वैसे ही बदल जाता है और जब वे गेंदबाजी नहीं करते तो अपना दिमागी स्विच ऑफ कर देते हैं। उनका कहना है वे लंबे हमेशा से ऐसा करते हैं।

Tokyo Paralympics: भाविना पटेल टेबल टेनिस के नॉकआउट दौर में पहुंचींTokyo Paralympics: भाविना पटेल टेबल टेनिस के नॉकआउट दौर में पहुंचीं

हालांकि एंडरसन के शरीर में समस्याएं उम्र के साथ बढ़ रही हैं और उनके दाहिने कंधे में दर्द रहता है जिसके बारे में वह कहते हैं कि वह तकलीफ के बीच अपना काम खींच रहे हैं। लेकिन इसके साथ आपको अपने काम करने के रास्ते ढूंढने होते हैं। एंडरसन ने यह भी बताया कि लॉर्ड्स टेस्ट में जो चीज छींटाकशी हुई थी उसके बारे में ड्रेसिंग रूम में थोड़ी बहुत बातचीत हुई जिसके बाद इंग्लैंड की टीम ने तय किया कि वे जो काम अच्छा कर सकते हैं उसी पर फोकस करेंगे और बेकार की बातों में नहीं उलझेंगे।

इंग्लैंड ने पहले तो भारत को 78 रनों पर ढेर कर दिया और फिर ओपनिंग बल्लेबाजों के अर्धशतकों के दम पर 120 रन बिना किसी विकेट पर दबाव बना दिए थे। एंडरसन कहते हैं कि इस तरह के दिन रोज-रोज नहीं आते और आपको ऐसे मौके आने पर वास्तव में खुश होने की जरूरत है। एंडरसन कहते हैं कि इंग्लिश ओपनरों ने साबित कर दिया है कि पिच में कोई खास दिक्कत नहीं थी और यह अंग्रेज बॉलरो की बेहतरीन गेंदबाजी थी जिसने भारत को बेदम करके रख दिया।

वे कहते हैं, "जब आप किसी भी टीम को 100 रनों के अंदर आउट कर देते हैं तो अक्सर यह सोचते हैं क्या यह बल्लेबाजों की खराब बैटिंग थी, या फिर हमने गेंदबाजी बहुत अच्छी की, या फिर विकेट में कोई ऐसी बात थी जो यह इतना मुश्किल था, लेकिन जब आपने उन दोनों ओपनिंग बल्लेबाजों को इतनी अच्छी बैटिंग करते देखा तो इसने ड्रेसिंग रूम में काफी शांति दी।"

इंग्लैंड के ओपनिंग बल्लेबाज हसीब हमीद भी लंकाशायर से ताल्लुक रखते हैं जो जेम्स एंडरसन की काउंटी रही है और इसके लिए एंडरसन काफी खुश हैं।

जिमी ने अनिल कुंबले के 619 विकेटों से ऊपर हासिल कर लिए हैं लेकिन अब महानतम स्पिनर लेग स्पिनर शेन वार्न का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए उनको 700 से ज्यादा विकेट लेने होंगे जो कि इस समय लगभग असंभव दिखता है। एंडरसन ने पहले भी बहुत मुश्किल चीजों को आसान करके दिखाया है। अगर वे 700 से ऊपर टेस्ट विकेट लेकर वार्न को पीछे छोड़ते हैं तो यह विश्व क्रिकेट का एक चमत्कार होगा। देखते हैं एंडरसन कहां रुकते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, August 26, 2021, 14:06 [IST]
Other articles published on Aug 26, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X