युवा पीटरसन ने बताया, चौथी पारी में जीत के कितना टारगेट चेज कर सकती है साउथ अफ्रीका

नई दिल्लीः दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज केगन पीटरसन एक उभरते हुए खिलाड़ी हैं। वे टेंबा बावुमा की तरह एक भरोसेमंद बल्लेबाज साबित हो सकते हैं। फिलहाल प्रोटियाज टीम एक बदलाव के दौर से गुजर रही है जहां पर उसने कई महान खिलाड़ियों को खोया है। साउथ अफ्रीका की गेंदबाजी में तो फिर भी कैगिसो रबाडा ने बागडौर संभाल रखी है लेकिन बल्लेबाजी में अभी कोई महान सितारा नहीं चमक रहा है। यही वजह से यह टीम भारत के खिलाफ मौजूदा सीरीज में भी बैटिंग के मोर्चे पर मात खा रही है।

फिलहाल तीन मैचों की सीरीज का दूसरा मुकाबला जोहांसबर्ग में खेला जा रहा है जहां पर प्रोटियाज बॉलिंग ने टीम इंडिया की बल्लेबाजी को पहली पारी में बहुत परेशान किया लेकिन भारत ने अफ्रीकी बल्लेबाजों को केवल 27 ही रनों की लीड लेने दी। दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक दक्षिण अफ्रीका की टीम 58 रनों से मैच में पिछड़ रही थी और भारत के पास 8 विकेट शेष थे।

200 रनों के अंदर लीड को संभाल सकते हैं- पीटरसन

200 रनों के अंदर लीड को संभाल सकते हैं- पीटरसन

अब साउथ अफ्रीका के युवा बल्लेबाज केगन पीटरसन को लगता है कि अगर उनकी टीम के गेंदबाज भारत की लीड को 200 रनों के अंदर समेट देते हैं तो यह दक्षिण अफ्रीका द्वारा चौथी पारी में हासिल करने के लिए वास्ताविक लक्ष्य होगा। बता दें वांडरर्स की पिच के बारे में यह बताया जा रहा है कि यह दिन गुजरने के साथ-साथ बल्लेबाजों के लिए और मुश्किलें पेश करती जाएगी।

पीटरसन ने दूसरे दिन के खेल के बाद कहा था, जितने ज्यादा वे स्कोर करेंगे, उतना ही स्कोर हमकों भी जीतने के लिए करना होगा। भारत की गेंदबाजी खेलने में मुश्किल है। तो वास्ताविक तौर पर, मैं कहूंगा कि 200 के अंदर कुछ भी पाने योग्य है लेकिन जितना ज्यादा वे हासिल करते जाएंगे, मैच को हमसे उतनी दूर लेते जाएंगे।

न्यूजीलैंड में इतिहास रचने के बाद जमकर मनाया गया बांग्लादेशी ड्रेसिंग रूम में जश्न- देखें VIDEO

पिता से सीखी है ठोस तकनीक-

पिता से सीखी है ठोस तकनीक-

पीटरसन ने भारत के शानदार बॉलिंग अटैक के खिलाफ 118 गेंदों पर 62 रनों की पारी खेली थी। वे अपना चौथा ही टेस्ट मैच खेल रहे हैं। पीटरसन कहते हैं कि पिच पर दिन बढ़ने के साथ खेल मुश्किल होता जाएगा। भारत की बॉलिंग को झेलकर हॉफ सेंचुरी लगाना आसान नहीं था। लेकिन अगर मैं और योगदान दे पाता तो और भी अच्छा लगता।

पीटरसन ने अपनी ठोस तकनीक के लिए अपने पिता डिर्क पीटरसन को क्रेडिट दिया और कहा, मैं जब से बच्चा था, तब से ऐसे ही बल्लेबाजी कर रहा हूं। मैं केवल अपने पिता को थैंक्यू बोलना चाहूंगा जिन्होंने पूरी जिंदगी मेरे ऊपर मेहनत की। तो मेरे पास भी वैसा ही खेल है। पिता ने थोड़ा क्रिकेट खेला था।

पुजारा-रहाणे कर रहे हैं पीटरसन की उम्मीदों को धूमिल-

पुजारा-रहाणे कर रहे हैं पीटरसन की उम्मीदों को धूमिल-

मैच की बात करें तो भारत की स्थिति तीसरे दिन के पहले सेशन की शुरुआत में ठीक दिखाई दे रही है क्योंकि अंजिक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा तमाम तरह के दबाव के बीच एक बढ़िया साझेदारी करते हुए दिखाई दे रहे हैं। दोनों ही बल्लेबाजों के प्रदर्शन के बूते भारत ने प्रोटियाज टीम के खिलाफ अपनी लीड 100 रनों से ऊपर कर ली है।

पुजारा ने अपना तेज अर्धशतक पूरे कर लिया है। गियर बदलकर की गई बैटिंग से पुजारा का बल्ला एक बार फिर रन दे रहा है और ऐसा लगता है इन पारियों से दोनों अनुभवी बल्लेबाजों के आलोचकों का मुंह इस मुकाबले तक और बंद हो गया है।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, January 5, 2022, 14:19 [IST]
Other articles published on Jan 5, 2022
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X