जब पाकिस्तान हुआ चारों खाने चित्त, शास्त्री की 'ऑडी 100' पर चढ़ गए सभी खिलाड़ी

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम ने 1983 का विश्व कप जीता और विश्व क्रिकेट में दबदबा बनाया। विश्व कप जीतने के दो साल से भी कम समय में, 'बेंसन एंड हेजेज विश्व चैम्पियनशिप ऑफ क्रिकेट' की घोषणा की गई थी। उस समय, यह निर्णय लिया गया था कि टेस्ट टीम की स्थिति वाली टीम टूर्नामेंट में भाग लेगी। टेस्ट खेलने वाली सात टीमों को दो ग्रुप में बांटा गया था। सभी मैच सफेद गेंदों के साथ खेले जाने थे। खिलाड़ियों ने रंग से भरे कपड़े पहने थे।

ग्रुप ए में विश्व चैंपियन भारत, पाकिस्तान, मेजबान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड शामिल थे। ग्रुप बी में न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज और श्रीलंका शामिल थे। भारत के विश्व कप जीतने के बावजूद, ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज को टूर्नामेंट में संभावित विजेता के रूप में देखा गया। हालांकि, भारत और पाकिस्तान ग्रुप ए से सेमीफाइनल में पहुंचे, जबकि वेस्टइंडीज और न्यूजीलैंड ग्रुप बी से उम्मीद के मुताबिक सेमीफाइनल में पहुंचे। मेजबान ऑस्ट्रेलिया को पहले दौर में ही हार का सामना करना पड़ा।

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए पहले सेमीफाइनल में भारत ने न्यूजीलैंड को हराकर फाइनल में जगह बनाई। दूसरी ओर, पाकिस्तान को पहली बार दूसरे सेमीफाइनल में वेस्टइंडीज को हराकर किसी बड़े टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने का गौरव हासिल हुआ। न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज की हारने वाली टीमों के बीच तीसरे स्थान के मैच में वेस्टइंडीज ने न्यूजीलैंड को हराकर टूर्नामेंट का अंत जीत के साथ किया। भारत और पाकिस्तान पहली बार किसी बड़े क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल में आमने-सामने हुए। सभी को यकीन था कि 10 मार्च 1985 को मेलबर्न के दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम में ऐतिहासिक मैच खेला जाएगा। सुनील गावस्कर या जावेद मियांदाद में काैन 'वर्ल्ड चैंपियनशिप क्रिकेट' की ट्रॉफी उठाएगा, इसका सबको इंतजार था।

ये हैं टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज, लिस्ट में 1 भारतीय

पाकिस्तान ऐसे हुआ था चारों खाने चित्त

पाकिस्तान ऐसे हुआ था चारों खाने चित्त

पाकिस्तान के कप्तान जावेद मियांदाद ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। मैच के लिए दोनों टीमों ने बदलाव किया। अजीम हफीज ने पाकिस्तान के वसीम अकरम की जगह ली है, जबकि भारत ने रोजर बिन्नी की जगह चेतन शर्मा को लिया।

भारत की विश्व कप विजेता टीम के कप्तान और अहम तेज गेंदबाज कपिल देव ने मैच की शुरुआत में ही पाकिस्तान को 29 रन पर 3 झटके दे दिए। चेतन शर्मा ने सेमीफाइनल के हीरो रहे, जिन्होंने रमीज राजा को आउट कर पाकिस्तान को और भी मुश्किल में डाल दिया। कप्तान मियांदाद और अनुभवी इमरान खान ने पांचवें विकेट के लिए 68 रन जोड़कर पाकिस्तान की पारी का अंत किया। ये दोनों बल्लेबाज पारी की शुरुआत में ही आउट हो जाते, लेकिन अंपायर के गलत फैसले से दोनों बच गए थे।

इमरान खान के रन आउट होने के बाद पाकिस्तान के अन्य विकेट नियमित अंतराल पर गिरते रहे। पाकिस्तान के लिए मियांदाद ने सर्वाधिक 48 रन बनाए। अंत में पाकिस्तान की पारी 50 ओवर में 9 विकेट पर 176 रन पर समाप्त हुई। भारत के लिए कपिल देव ने सर्वाधिक चार विकेट लिए जबकि 19 वर्षीय लक्ष्मण शिवरामकृष्णन ने तीन विकेट लिए। चेतन शर्मा और रवि शास्त्री भी एक-एक विकेट लेने में हुए।

...और भारत ने जीत लिया खिताब

...और भारत ने जीत लिया खिताब

भारत के लिए पाकिस्तान की 177 रन की चुनौती आसान थी। टूर्नामेंट में तूफानी फॉर्म में चल रहे रवि शास्त्री और कृष्णमाचारी श्रीकांत ने बिना किसी दबाव के रनों का पीछा करना शुरू कर दिया। इन दोनों ने पाकिस्तानी गेंदबाजों पर अपना दबदबा बनाया और पहले विकेट के लिए 103 रन जोड़कर भारत की जीत पर मुहर लगा दी। श्रीकांत ने 77 गेंदों में 67 रनों की आक्रामक पारी खेली। तीसरे नंबर पर आए मोहम्मद अजहरुद्दीन ने भी 25 रनों का योगदान देकर भारत को जीत के करीब पहुंचाया। अंत में, मुंबई के रवि शास्त्री (63) और दिलीप वेंगसरकर (18) ने नाबाद रहते हुए टीम को जीत दिलाई। विश्व कप खिताब के बाद 'बेंसन एंड हेजेज विश्व चैम्पियनशिप ऑफ क्रिकेट' की चमकदार ट्रॉफी सुनील गावस्कर के हाथ में थी।

शास्त्री को मिली 'ऑडी 100' तो देखता रह गया पाकिस्तानी खेमा

शास्त्री को मिली 'ऑडी 100' तो देखता रह गया पाकिस्तानी खेमा

रवि शास्त्री, जो वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच हैं, के लिए यह टूर्नामेंट उनके पूरे क्रिकेट करियर का मुख्य आकर्षण रहा है। उन्होंने पहले दो मैचों में उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं किया। हालांकि, उन्होंने अंतिम समय और सेमीफाइनल के साथ-साथ फाइनल में भी अर्धशतक बनाए। पूरे टूर्नामेंट में सलामी बल्लेबाज के रूप में खेलते हुए, उन्होंने 182 रन बनाए और आठ विकेट लिए। वहीं शास्त्री को ऑडी 100 भी गिफ्ट की गई। जैसे ही शास्त्री को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए आॅडी मिली तो सभी खिलाड़ी उसके ऊपर चढ़ते हुए ग्राउंड के चक्कर लगाने लग पड़े। यह देख पाकिस्तानी खेमा देखता ही रह गया था। शास्त्री इंटरव्यू दे रहे थे कि इतने में कोई कार के ऊपर चढ़ गया तो कोई बोनट पर बैठ गया। जैसे-तैसे खिलाड़ियों ने कार पर ग्राउंड का चक्कर लगाना चाहा। बाद में, कार को तत्कालीन भारतीय प्रधान मंत्री राजीव गांधी के आदेश पर 'कस्टम ड्यूटी' माफ करते हुए शास्त्री को सौंप दिया गया था।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, May 27, 2021, 15:55 [IST]
Other articles published on May 27, 2021

Latest Videos

    + More
    POLLS
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Yes No
    Settings X