IND vs SA, 2018 फ्लैशबैक: 1-2 से सीरीज हारा था भारत, लेकिन टीम ने छोड़ा था गहरा प्रभाव

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेटरों को दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज खेलते देखना हमेशा एक अलग ही अनुभव रहा है। वहां पर आपको हरे मैदान, हाई स्पीड ट्रैक और दो बेहतरीन टीमों के बीच कड़े मुकाबले देखने को मिलते हैं जो कि टेस्ट क्रिकेट को बहुत दिलचस्प खेल बना देते हैं। भारत की मौजूदा टीम निश्चित तौर पर विश्व की सबसे बेहतरीन पावर हाउस में से एक है लेकिन यह भी एक फैक्ट है कि भारत ने अभी तक प्रोटियाज के खिलाफ उनकी धरती पर कोई टेस्ट सीरीज नहीं जीती है।

अभी तक यहां पर 7 सीरीज खेली गई है अभी जिसमें 6 में भारत को हार मिली और एक सीरीज का रिजल्ट ड्रा हुआ। आंकड़े यही कहते हैं और अब विराट कोहली इनको बदलने के लिए आठवीं बाद दक्षिण अफ्रीका की धरती पर उतर चुके हैं। पिछली बार भारत ने 1-2 से टेस्ट सीरीज गंवाई थी लेकिन ऐसे कई खिलाड़ी थे जिनका उस श्रंखला में उभार हुआ था। आइए उन पर एक नजर डालते हैं।

भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरा 2018-

भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरा 2018-

यह बतौर कप्तान विराट कोहली का सबसे पहला दक्षिण अफ्रीका दौरा था और वह रवि शास्त्री के गाइडेंस में खेले थे। यह विश्वास जताया जा रहा था कि टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका में इस बार इतिहास जरूर रच देगी लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो सका। उन्होंने पहला टेस्ट मुकाबला 72 रनों से हरा और दूसरा मैच सेंचुरियन में 135 रनों से हरा। लेकिन भारत अंतिम मुकाबले तक आते-आते वापसी कर चुका था और उन्होंने 63 रनों से दक्षिण अफ्रीका को पीट दिया।

लड़की को किडनैप करने करने के मामले में यासिर शाह और उनके दोस्त के खिलाफ FIR दर्ज

जसप्रीत बुमराह और हार्दिक पांड्या का उभार-

जसप्रीत बुमराह और हार्दिक पांड्या का उभार-

यह सीरीज भारत के लिए यादगार इसलिए थी क्योंकि यहां पर जसप्रीत बुमराह ने एक पेसर के तौर पर अपने उभार को छुआ था। वह ऐसे खिलाड़ी थे जिन पर सबकी नजरें थी क्योंकि वह टेस्ट फॉर्मेट में पहली बार विदेशी दौरा कर रहे थे। बुमराह ने तीन मैचों में 14 विकेट चटकाए और वे इस सीरीज में दूसरे सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले बॉलर बने। उस सीरीज में फिलैंडर, कगिसो रबाडा और मोहम्मद शमी ने 15-15 विकेट आपस में चटकाए थे।

बुमराह की तरह हार्दिक भी एक नए चेहरे थे जो दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गए थे। उन्होंने अपने आप को एक विश्वसनीय ऑलराउंडर के तौर पर स्थापित किया। हार्दिक बिरयानी एक अर्धशतक के साथ उन तीन मुकाबलों में 119 रन बनाए थे और अहम मौकों पर कुछ बेहतर पारियां खेली।

भुवनेश्वर कुमार का भरोसा, शमी की लय-

भुवनेश्वर कुमार का भरोसा, शमी की लय-

यह वह समय था जब भुवनेश्वर कुमार टेस्ट मैचों में नियमित तौर पर खेलते थे और उन्होंने घरेलू बल्लेबाजों को अपनी स्विंग बॉल से लगातार झुंझलाहट में रखा। 2018 के दौरे पर उन्होंने तीन मुकाबलों में 10 विकेट चटकाए और भारत के लिए तीसरे सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले गेंदबाज थे।

2018 के दौरे पर मोहम्मद शमी विदेशी दौरे पर प्रभाव छोड़ने वाले बॉलर बने क्योंकि उन्होंने तीन मैचों में 15 विकेट लिए थे और उनका बॉलिंग एवरेज 17.04 था जो कि सीरीज के बेस्ट बॉलिंग एवरेज में दूसरे नंबर पर था। उन्होंने एक बार पांच विकेट एक पारी में भी लिए जो कि जोहांसबर्ग टेस्ट में आए थे और भारत ने इस मुकाबले को जीत लिया था।

कोहली की फॉर्म, अश्विन का तेज विकेट पर प्रदर्शन-

कोहली की फॉर्म, अश्विन का तेज विकेट पर प्रदर्शन-

विराट कोहली 2018 में बहुत ही जबरदस्त बल्लेबाजी फॉर्म में थे। यह कहना सही होगा कि विराट कोहली कुछ-कुछ ऐसे ही थे जैसे कि 1990 के दशक में सचिन तेंदुलकर हुआ करते थे। विराट कोहली ने उस दौरे पर एक शतक और एक अर्धशतक के साथ तीन मैचों में 286 रन बनाए। उन्होंने 47.67 की औसत से बल्लेबाजी की और उस पूरी सीरीज में सबसे ज्यादा बाउंड्री लगाने वाले खिलाड़ी बने और उनकी बाउंड्री की संख्या थी-35।

साउथ अफ्रीका की पिचें तेज गेंदबाजी की मदद करने के लिए जानी जाती हैं। लेकिन अश्विन ऐसे एकमात्र स्पिनर थे जिन्होंने टॉप-10 विकेट लेने वाले गेंदबाजों में जगह बनाई थी। उन्होंने 2 मैचों में 7 विकेट लिए थे और 30.71 के ठीक-ठाक औसत से विपरीत परिस्थितियों में बॉलिंग की थी।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Tuesday, December 21, 2021, 12:08 [IST]
Other articles published on Dec 21, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X