गावस्कर के 10 हजार रन, आज के 15 हजार रन के बराबर हैं : इंजमाम उल हक

नई दिल्ली। क्रिकेट पहले समय की तुलना में अब बहुत बदल चुका है। खिलाड़ियों के खेलने का तरीका बदला है। नई तकनीक के सहारे उनके खेल में कई गुना सुधार हुआ। वहीं करीब 2007 से पहले खिलाड़ियों के पास इतनी सुविधा नहीं थी कि वो अपना खेल आसान बना सकें। माैजूदा समय में शतक बनाना आम सी बात हो गई है, लेकिन पहले शतक लगाने के लिए खिलाड़ियों के पसीन छूट जाते थे। यही कारण है कि पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक ऐसा मानते हैं कि सुनील गावस्कर के 10 हजार रन, आज के 15 हजार रन के बराबर हैं।

साैरव गांगुली का दावा- मुझे तीन महीने दीजिए, अभी भी टेस्ट में रन बना लूंगासाैरव गांगुली का दावा- मुझे तीन महीने दीजिए, अभी भी टेस्ट में रन बना लूंगा

की गावस्कर की तारीफ

की गावस्कर की तारीफ

इंजमाम ने भारत के महान बल्लेबाज गावस्कर की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि उस महान भारतीय बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में 10,000 रन बनाकर एक अविश्वसनीय उपलब्धि हासिल की क्योंकि उस दौरान रन बनाना उतना आसान नहीं था। उनके दौर में भी और उससे पहले भी कई महान खिलाड़ी थे। जावेद मियांदाद, विवियन रिचर्ड्स, गैरी सोबर्स और डॉन ब्रैडमैन जैसे बल्लेबाज रहे, लेकिन उन्होंने भी कभी सोचा नहीं कि वो 10 हजार रन बनाएंगे लेकिन तब गावस्कर ने ऐसा कर दिखाया था।

आज के 15 हजार रन के बराबर हैं गावस्कर के रन

आज के 15 हजार रन के बराबर हैं गावस्कर के रन

इंजमाम ने अपने यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए कहा, 'अगर आप मुझसे पूछें, तो मैं कहूंगा कि सुनील के उस दौर के 10,000 रन आज के 15,000 से 16,000 रन के बराबर हैं। ये और ज्यादा ही हो सकते हैं मगर कम नहीं।' 71 वर्षीय गावस्कर ने भारत के लिए 125 टेस्ट और 108 वनडे खेले, जिसमें उन्होंने क्रमशः 10,122 और 3,092 रन बनाए। गावस्कर को लिटिल मास्टर भी कहा जाता है। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज के नाम कई रिकाॅर्ड दर्ज हैं।

आसान नहीं थी पहले बल्लेबाजी

आसान नहीं थी पहले बल्लेबाजी

इसके अलावा इंजमाम ने यह भी कहा कि पहले बल्लेबाजी करना आसान नहीं था। उन्होंने कहा, 'अगर आपका फॉर्म अच्छा है, तो आप स्कोर भी कर सकते हैं। एक सीजन में 1000 से 1500 रन। लेकिन जब सुनील बल्लेबाजी कर रहे थे, तब स्थिति ऐसी नहीं थी। आज विशुद्ध रूप से बल्लेबाजी विकेट तैयार किए जाते हैं ताकि आप रन बना सकें। आईसीसी ने कहा कि आईसीसी बल्लेबाजों को ऐसा करते हुए भी देखना चाहता है ताकि दर्शकों का मनोरंजन हो।' इंजी कहते हैं, लेकिन पिछले विकेटों पर बल्लेबाजी करना इतना आसान नहीं था, खासकर तब जब आप उपमहाद्वीप के बाहर खेल रहे होते थे।'

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Friday, July 17, 2020, 14:05 [IST]
Other articles published on Jul 17, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X