आसान नहीं होगी युवराज सिंह की संन्यास से वापसी, BCCI की ये नीतियां हैं रुकावट

Yuvraj Singh's return to Indian Cricket is not easy taking pension from BCCI | Oneindia Sports

नई दिल्लीः भारतीय टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने भले ही यह पुष्टि कर दी है कि वे संन्यास से बाहर आकर पंजाब के लिए खेलना चाहते हैं, लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की नीतियां शायद इस वापसी में रुकावट बन सकती हैं।

एएनआई से बात करते हुए बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा कि अंतिम फैसला बोर्ड को लेना है, क्योंकि युवराज को ना केवल संन्यास लेने के वन-टाइम लाभ दे दिए गए हैं बल्कि जून 2019 में उनके संन्यास के बाद से युवी को मासिक पेंशन भी दी जा रही है।

बीसीसीआई अधिकारी ने ये कहा-

बीसीसीआई अधिकारी ने ये कहा-

हालांकि बोर्ड के अधिकारी ने कहा कि अगर युवराज की वापसी होती है तो यह पंजाब क्रिकेट के युवाओं के लिए महान अवसर होगा जिसमें वे इस स्टार क्रिकेटर से काफी कुछ सीख सकेंगे।

IPL 2002: दिनेश कार्तिक ने कहा- ईडन गार्डन्स की एनर्जी मिस करेगी टीम

उन्होंने कहा, युवराज जैसे अनुभवी के साथ समय बिताना युवाओं के लिए बेस्ट चीज हो सकती है। लेकिन उनको ना केवल वन-टाइम रिटायरमेंट लाभ दिया गया बल्कि 22,500 रुपए के आसपास पेंशन भी दी जा रही है। अंतिम फैसला बोर्ड को लेना है।

युवराज के खेलने से युवाओं को फायदा होगा-

युवराज के खेलने से युवाओं को फायदा होगा-

उल्लेखनीय है कि युवराज सिंह के रिटायरमेंट के बाद पंजाब क्रिकेट संघ ने संन्यास का फैसला वापस लेकर पंजाब टीम में बतौर खिलाड़ी और मेंटर खेलने का आग्रह किया था। इसको लेकर युवराज सिंह ने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को रिटायरमेंट से वापस आने के लिये पत्र भी लिखा है। इसके बाद उम्मीद की जा रही है कि वो आगामी सत्र के लिये घरेलू क्रिकेट में पंजाब की ओर से खेलते हुए नजर आ सकते हैं।

पंजाब क्रिकेट में योगदान देना चाहते हैं युवी-

पंजाब क्रिकेट में योगदान देना चाहते हैं युवी-

संन्यास से वापसी के अपने फैसले पर बात करते हुए युवराज सिंह ने कहा, 'मैंने शुभमन गिल, अभिषेक शर्मा, प्रभसिमरन सिंह, अनमोलप्रीत सिंह जैसे पंजाब के युवा क्रिकेटरों के साथ मोहाली के पीसीए स्टेडियम में कुछ समय गुजारा और मुझे काफी मजा आया। मैंने उनसे खेल के विभिन्न पहलुओं पर बात की। मैंने महसूस किया कि मैं जो कुछ भी उन्हें बता रहा था वो उसे समझ पा रहे थे।'

पिछले साल 10 जून को युवराज ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से अपने संन्यास की घोषणा कर दी थी। 304 वनडे इंटरनेशनल, 58 टी20आई और 40 टेस्ट मैचों में प्रदर्शन के साथ युवराज ने भारतीय टीम में मजबूती से अपनी जगह बनाए रखी थी, वह एक मैच विजेता, उपयोगी ऑलराउंडर और महान फील्डर के तौर पर जाने गए।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Thursday, September 10, 2020, 9:43 [IST]
Other articles published on Sep 10, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X