साउथ अफ्रीका में नए कोविड वैरिएंट ने फैलाई चिंता, भारत के प्रोटियाज दौरे पर भी सवाल

नई दिल्लीः साउथ अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट दुनिया भर में खतरे की घंटी बजा रहा है जिसके चलते भारत का साउथ अफ्रीका दौरा भी अभी सोच विचार के दायरे में चला गया है। हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अधिकारियों की जल्दबाजी में निर्णय लेने की कोई योजना नहीं है। लेकिन वे कोविड के नए वैरिएंट के बारे में अधिक जानकारी के सामने आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। अपने म्यूटेशन की वजह से यह वैरिएंट चिंता पैदा करता है।

हालांकि टीम इंडिया 9 दिसंबर की सुबह ही दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होने वाली है जबकि भारत ए टीम वर्तमान में ब्लोमफोन्टेन में चार दिवसीय मैच खेल रही है और अभी भी दो और मैच होने हैं। दोनों टीमों के बायो-सिक्योर बबल में रहने के साथ, यह समझा जाता है कि अभी तक उस श्रृंखला के लिए कोई तत्काल खतरा नहीं है और इस पर कोई भी निर्णय स्थानीय स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एडवाइजरी के आधार पर लिया जाएगा।

टिम साउदी के फिर काम आया पुराना अनुभव, 2018 के बाद से है विदेशों में बेस्ट बॉलिंग एवरेजटिम साउदी के फिर काम आया पुराना अनुभव, 2018 के बाद से है विदेशों में बेस्ट बॉलिंग एवरेज

बीसीसीआई, क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के अलावा, भारतीय खिलाड़ियों और टीम प्रबंधन से भी परामर्श करेगा। इसके बाद ही कोई फैसला किया जाएगा।

रिपोर्टों के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका दिसंबर के मध्य में एक चौथी कोविड लहर की उम्मीद कर रहा है। गांधी-मंडेला ट्रॉफी के लिए तीन मैचों की फ्रीडम सीरीज 17 दिसंबर को जोहान्सबर्ग में पहले टेस्ट के साथ शुरू होगी, उसके बाद सेंचुरियन में बॉक्सिंग डे टेस्ट और केप टाउन में नए साल का टेस्ट होगा। तीन एकदिवसीय और चार टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच भी खेले जाएंगे। जाहिर है यह एक लंबा दौरा होगा और प्रोटियाज टूर भारत के लिए अक्सर मुश्किल होता है।

अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा क्योंकि बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा कि दौरा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आगे बढ़ सकता है बशर्ते सीएसए एक पूर्ण जैव-सुरक्षित वातावरण बनाए और मेजबान शहरों को बदल दे। ऐसे में ब्लोमफोन्टेन, पार्ल और पोर्ट एलिजाबेथ को एक विकल्प के रूप में बताया जा रहा है।

भारतीय खिलाड़ियों ने हाल ही में बुलबुले में काफी समय बिताया है और एक मुश्किल समय से वे गुजरना नहीं चाहेंगे। वैसे तो भारत सरकार ने दक्षिण अफ्रीका को रेड-लिस्ट देशों में नहीं रखा है, लेकिन पिछले उदाहरणों की तरह, अगर कोविड की संख्या बढ़ती है, तो स्थिति बदल सकती है और ऐसा बहुत जल्दी हो सकता है।

पिछले साल में क्रिकेट साउथ अफ्रीका को कुछ चीजों से जूझना पड़ा था जब इंग्लैंड की टीम ने सफेद गेंद टूर साउथ अफ्रीका में बीच में ही छोड़ दिया था। उस समय बबल सेफ्टी को लेकर चिंताएं व्यक्त की गई थी। फिर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भी साउथ अफ्रीका का फरवरी-मार्च में किया गया टूर भी इसी कारण से चलता कर दिया था। दोनों ही फैसलों के चलते क्रिकेट साउथ अफ्रीका को काफी घाटा हुआ था।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Friday, November 26, 2021, 22:59 [IST]
Other articles published on Nov 26, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X