68 साल पहले 4 घंटे के अंदर ही भारत ने गंवाए 20 विकेट, 1 ही दिन में हुआ 2 बार OUT

नई दिल्ली: 1952 में भारत का इंग्लैंड दौरा यादगार तरीके से शुरू नहीं हुआ था, क्योंकि भारतीय टीम 4 मैचों की टेस्ट सीरीज़ में 0-2 से नीचे थी। भारतीय टीम ने पहले दो टेस्ट मैचों में बेहतर बल्लेबाजी प्रदर्शन किए लेकिन केवल हार की तरफ ही समाप्त हुई। तीसरा टेस्ट मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड में 17 जुलाई को शुरू हुआ जिसमें पहले बल्लेबाजी करने के लिए इंग्लैंड का चुनाव हुआ। मैच के पहले दो दिन बारिश से प्रभावित थे और दूसरे दिन के अंत तक केवल 133 ओवर का खेल ही हो पाया था।

पहली पारी में भारत 58 रनों पर ढेर हो गया-

पहली पारी में भारत 58 रनों पर ढेर हो गया-

लेकिन ये फ्रेड ट्रूमैन थे जिन्होंने भारतीय लाइन-अप की बखिया उधेड़ दी। भारत ने चार ओवरों में सिर्फ पांच रन के लिए अपने शीर्ष तीन विकेट खो दिए। उन्होंने 9.5 ओवर में बोर्ड पर केवल 17 रनों के साथ आधी टीम गंवा दी। भारत के अंतिम पांच विकेट भी केवल 23 बॉल के अंदर गिर गए थे।

12 साल बाद बकनर ने मानी गलती- ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज को भारत के खिलाफ बनाने दी थी सेंचुरी

विजय मांजरेकर ने अपनी 23 गेंदों में 22 रन की पारी खेली, जबकि कप्तान हजारे ने 68 मिनट के के दौरान 58 गेंदों में 16 रन बनाये। भारत 58 रनों पर ढेर हो गया और फ्रेड ट्रूमैन ने दो स्पेल में चार आठ विकेट लिए। भारत को फॉलो करने के लिए कहने में इंग्लैंड को कोई हिचक नहीं थी।

फॉलोऑन के बाद भी बुरा हाल रहा जारी-

फॉलोऑन के बाद भी बुरा हाल रहा जारी-

सलामी बल्लेबाज पंकज रॉय ने 26 मिनट में 20 गेंदों पर बल्लेबाजी लेकिन फिर से जीरो बनाकर ट्रूमैन का शिकार बन गए।

वीनो मांकड़ भी सस्ते में गिर गए क्योंकि भारत 9 वें ओवर में केवल सात रन पर दो विकेट गिरा गया। इसके बाद कप्तान हजारे ने हेमु अधिकारी के साथ तीसरे विकेट के लिए एक महत्वपूर्ण स्टैंड रखा। दूसरे सेशन के दौरान दोनों ने 24 ओवरों में 49/2 रन बनाकर 15 ओवर में 15 रन बनाए। हालांकि, अधिकारी रिटायर्ड हर्ट हुए थे, उन्होंने 42 गेंदों में 25 रन बनाए।

विजय हजारे का संघर्ष बेकार गया-

विजय हजारे का संघर्ष बेकार गया-

पहली पारी की कहानी ही फिर से दोहराई गई। उन भारतीयों के लिए दोहराई गई, जो इंटरवल के बाद पहले ही ओवर में विकेट गंवा कर गिर गए। कप्तान विजय हजारे 51 गेंदों पर 16 रन और बनाकर टोनी लॉक द्वारा आउट हो गए। अधिकारी फिर से क्रीज पर लौटे लेकिन दो रन जोड़कर चलते बने।

जॉन सीना ने शेयर की ऐश्वर्या राय की फोटो, फैंस ने दिया सरकारी नौकरी लगवाने का ऑफर

223 मिनट की बल्लेबाजी में खो दिए 20 विकेट-

223 मिनट की बल्लेबाजी में खो दिए 20 विकेट-

भारत ने अंतिम सत्र में अपने शेष आठ विकेट खो दिए, जबकि 12.3 ओवरों में 23 रन जोड़े। बेडसर ने 5-विकेट लिए, जबकि लॉक ने चार और इस प्रकार, भारत को 82 रनों पर आउट कर दिया गया और टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहली ऐसी टीम बन गई जिसे एक मैच के एक ही दिन में दो बार आउट किया गया हो।

भारत दो पारियों में 58 और 82 रन बनाने के लिए क्रमशः 87 मिनट और 136 मिनट का समय लिया। इसका मतलब है कि भारत ने अपने सभी 20 विकेट खोने के लिए केवल 223 मिनट की बल्लेबाजी की।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Read more about: on this day record
Story first published: Sunday, July 19, 2020, 16:02 [IST]
Other articles published on Jul 19, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X