आज ही के दिन कपिल ने खेली थी वो पारी, जिसके बाद भारत ने खुद को चैम्पियन मानना शुरू किया

नई दिल्ली: 1983 में विश्व कप जीत की राह भारत के लिए आसान नहीं थी। सेमीफाइनल में इंग्लैंड का सामना करने से पहले, भारत को 37 साल पहले, आज ही के दिन (18 जून, 1983) जिम्बाब्वे ने लगभग ढेर कर दिया गया था और यह विश्व कप में आगे बढ़ने के लिए करो या मरो वाला मुकाबला था। टॉस जीतने के बाद, कप्तान कपिल देव ने पहले बल्लेबाजी के लिए चुना जबकि जिम्बाब्वे की मजबूत गेंदबाजी थी।

इस अफ्रीकी टीम के तेज गेंदबाज पीटर रॉसन और केविन कुरेन भारत के शीर्ष क्रम पर कहर बनकर टूट पड़े।

सुनील गावस्कर, क्रिस श्रीकांत, मोहिंदर अमरनाथ, संदीप पाटिल और यशपाल शर्मा के जल्दी आउट होने के साथ, भारत 17/5 पर रह गया। और फिर जादू हुआ।

शाहिद अफरीदी ने दी अपनी बीमारी पर अपडेट, कहा- शुरु के 2-3 दिन बहुत मुश्किल थे, VIDEOशाहिद अफरीदी ने दी अपनी बीमारी पर अपडेट, कहा- शुरु के 2-3 दिन बहुत मुश्किल थे, VIDEO

कप्तान कपिल देव बल्लेबाजी के लिए आए और जिम्बाब्वे की गेंदबाजी लाइन अप की बखिया उधेड़ दी। दाएं हाथ के बल्लेबाज ने एक स्मार्ट, फिर भी तेज पारी खेली, जिसमें उन्होंने 16 चौके और 6 छक्के लगाए। वह एकदिवसीय शतक जड़ने वाले पहले भारतीय बने। 123.81 के स्ट्राइक रेट से 138 गेंदों में नाबाद 175 रन बनाकर कपिल देव ने 60 ओवर में भारत का कुल स्कोर 266/8 कर लिया।

जवाब में मदन लाल और रोजर बिन्नी गेंद से चमकते हुए, आपस में 5 विकेट चटकाते हुए जिम्बाब्वे को 235 पर आउट कर दिया। भारत ने मैच जीता, और इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में आगे बढ़ा।

देव ने ट्विटर पर आईसीसी द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में कहा, "जिम्बाब्वे मैच एक ऐसा मैच था, जिसमें पूरी टीम को लगने लगा था कि हम शीर्ष चार टीमों को हरा सकते हैं और किसी भी दिन हम किसी को भी हरा सकते हैं।

"उस पारी ने टीम को आश्वासन दिया कि हमारे पास वह क्षमता है जिसे हम किसी भी परिस्थिति में जीत सकते हैं, और हम किसी भी स्थिति से वापस पलटवार सकते हैं।"

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, June 18, 2020, 13:19 [IST]
Other articles published on Jun 18, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X