पाकिस्तान के कोचिंग स्टाफ पर भड़के शाहिद अफरीदी, द्रविड़ का दिया उदाहरण

Shahid Afridi : कराची । टीम प्रबंधन और कोचिंग स्टाफ द्वारा मानसिक रूप से परेशान किए जाने के बारे में मोहम्मद आमिर (Mohammed Amir) के दावों ने पाकिस्तान (Pakistan) की क्रिकेट बिरादरी में खलबली मचा दी है। विभिन्न पूर्व क्रिकेटरों, विश्लेषकों और पंडितों ने मुख्य कोच मिस्बाह-उल-हक (Misbah Ul Haq) पर सवाल उठाए। वहीं पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी ने भी पूरे मामले पर खुलकर कहा कि कोचिंग स्टाफ के साथ मोहम्मद आमिर का विवाद पाकिस्तान क्रिकेट में सदियों पुरानी परंपरा की तरह कायम है। अफरीदी का मानना ​​है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के लिए यह समय है कि वह चीजों को नियंत्रण में रखे और सीधे खिलाड़ियों के प्रदर्शन के बारे में समझें।

ऋषभ पंत ने की जोरदार अपील, रोहित-रहाणे ने मुस्कुराते हुए उड़ाया मजाक

बिना किसी कारण बड़ा मुद्दा बना दिया

बिना किसी कारण बड़ा मुद्दा बना दिया

शाहिद अफरीदी ने कश्मीर के लॉन्च समारोह में मीडिया अधिकारियों से बात करते हुए कहा, "यह एक अच्छी परंपरा नहीं है। बोर्ड का अपने क्रिकेटरों के साथ एक प्रकार का अभिभावक संबंध है। चाहे वह मोहम्मद आमिर हो या कोई अन्य खिलाड़ी, पीसीबी को अपनी योजनाओं को उनके साथ संवाद करना चाहिए ताकि वे किसी भी मुद्दे के कारण गिरा दिए जाने पर मानसिक रूप से खुद को तैयार कर सकें।" चेयरमैन या चीफ सेलेक्टर कोचिंग स्टाफ की बजाए खिलाड़ियों से बात करते हैं तो बेहतर होगा। मोहम्मद आमिर को बिना किसी कारण के एक मुद्दा बना दिया गया था।

पूर्व खिलाड़ियों को कोच के रूप में भूमिका निभानी चाहिए

पूर्व खिलाड़ियों को कोच के रूप में भूमिका निभानी चाहिए

बातचीत में आगे, 398 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और 99 टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व करने वाले अनुभवी ऑलराउंडर अफरीदी, मुख्य कोच मिस्बाह-उल-हक के रक्षात्मक दृष्टिकोण से नाखुश लग रहे थे। शाहिद अफरीदी ने मिस्बाह पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कोई बच नहीं सकता है और बड़े मंच पर 'मुर्गे का दिल' लगा सकता है। 43 वर्षीय पूर्व भारतीय कप्तान और विकेटकीपर राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने भारत में युवा प्रतिभाओं को तैयार करने और उन्हें अंतरराष्ट्रीय सर्किट में मेन इन ब्लू का प्रतिनिधित्व करने के लिए काम किया। द्रविड़ बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) के प्रमुख हैं और अंडर -19 खिलाड़ियों के कोच हैं।

द्रविड़ का दिया उदाहरण

द्रविड़ का दिया उदाहरण

अफरीदी ने पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटरों से द्रविड़ का उदाहरण देते हुए जूनियर स्तर पर खिलाड़ियों को तैयार करने की भूमिका निभाने का आग्रह किया, ताकि वे राष्ट्रीय पक्ष के कोच की भूमिका को निभाने के बजाय पाकिस्तान के लिए बड़े मंच पर अपना प्रदर्शन कर सकें। शाहिद अफरीदी ने निष्कर्ष निकाला, "मुझे नहीं लगता कि पूर्व खिलाड़ियों को केवल राष्ट्रीय पक्ष के कोच के रूप में भूमिका निभानी चाहिए। मोहम्मद यूसुफ, इंजमाम-उल-हक और यूनिस खान जैसे स्टार क्रिकेटर भारत में राहुल द्रविड़ की तरह ही जूनियर स्तर पर कमाल कर सकते हैं। "

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, January 16, 2021, 11:18 [IST]
Other articles published on Jan 16, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X