T-20 में टीम से बाहर होने के सवाल पर शिखर धवन ने दिया जबरदस्त जवाब

पुणे। इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में शिखर धवन ने तीन पारियों में दो अर्धशतक लगाए और एक बार फिर से साबित किया आखिर क्यों वह टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज के तौर पर सबसे सफल बल्लेबाज हैं। टेस्ट टीम में धवन अपनी जगह गंवा चुके हैं, आखिरी बार 2018 में शिखर धवन ने भारत की ओर से टेस्ट मैच खेला था, लेकिन सीमित ओवर के मैच में वह लगातार टीम में बने हुए हैं। वनडे क्रिकेट में शिखर धवन 6000 रन पूरा करने से महज 23 रन दूर हैं और वनडे क्रिकेट में रोहित शर्मा के साथ उनकी सलामी बल्लेबाज के तौर पर जोड़ी सफल रही है। दोनों की जोड़ी सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली से कुछ ही कदम दूर है।

 टीम में की जबरदस्त वापसी

टीम में की जबरदस्त वापसी

टी-20 क्रिकेट की बात करें तो धवन की टीम में जगह फिलहाल फिक्स नजर नहीं आ रही है। इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज से पहले विराट कोहली ने कहा था कि केएल राहुल रोहित शर्मा के साथ बल्लेबाजी की शुरुआत करेंगे। लेकिन दो मैचों में रोहित शर्मा को आराम दिया गया और एक मैच में शिखर धवन ने रोहित शर्मा के साथ ओपनिंग की। पहले टी-20 मुकाबले में शिखर ने सिर्फ 4 रन बनाए, जिसके बाद उन्हें अगले मैचों में टीम में जगह नहीं मिली। लेकिन वनडे सीरीज में शिखर धवन ने जबरदस्त वापसी की और पहले मैच में 98 रन की पारी खेली। दूसरे मैच में वह सिर्फ 4 रन बना सके लेकिन तीसरे वनडे में उन्होंने 67 रन बनाए और पहले विकेट के लिए रोहित के साथ मिलकर 100 रन की साझेदारी की।

 टीम से बाहर होने पर, हंसते हुए दिया जवाब

टीम से बाहर होने पर, हंसते हुए दिया जवाब

मैच के बाद जब शिखर धवन से पूर्व क्रिकेट अजीत अगरकर ने से पूछा कि टी-20 सीरीज में टीम में जगह नहीं मिलने पर आपको कैसा महसूस हो रहा था तो इसके जवाब में शिखर धवन ने कहा कि मैं हमेशा ही स्क्वॉड में था, बस मैं खेल नहीं रहा था। ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद शिखर धवन ने खुद को फॉर्म में रखने के लिए विजय हजारे ट्रॉफी और सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में व्यस्त रखा। हालांकि विजय हजारे ट्रॉफी में शिखर तीन बार शून्य के स्कोर पर आउट हो गए, लेकिन महाराष्ट्र के खिलाफ उन्होंने 153 रन की पारी खेली।

 घरेलू क्रिकेट खेल रहे थे धवन

घरेलू क्रिकेट खेल रहे थे धवन

शिखर धवन ने कहा कि जब मुझे मौका मिला तो मैंने इसका पूरा फायदा उठाया। मैं घरेलू क्रिकेट खेल रहा था, सैयद मुश्ताक अली और विजय हजारे में मैं खेल रहा था। मैं वहां मैच में प्रैक्टिस कर रहा था। मैं खुश हूं कि मैंने इन टूर्नामेंट में हिस्सा लिया। विकेट काफी अच्छी थी, खासकर की आखिरी के दो मैचो में, मैं बाउंसी ट्रैक पर खेलना पसंद करता हूं। बता दूं कि तीसरे और आखिरी वनडे में 7 रनों से जीत दर्ज करके भारतीय टीम ने सीरीज को 2-1 से जीत लिया।

इसे भी पढ़ें- ग्लैंड के खिलाफ अपनी सफलता का शार्दुल ठाकुर ने बताया राज, पुरानी गेंद से ये थी रणनीति

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Monday, March 29, 2021, 12:10 [IST]
Other articles published on Mar 29, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X