वो 5 क्रिकेटर जिनका T20I बैटिंग औसत कोहली और बाबर दोनों से बेहतर है

नई दिल्ली: विराट कोहली और बाबर आजम को अक्सर टी 20 प्रारूप में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों की चर्चा में रखा जाता है। यह जोड़ी बल्ले के साथ अपनी निरंतरता और बिना किसी अपरंपरागत शॉट्स के रन बनाने की क्षमता के लिए जानी जाती है।

विराट और बाबर द्वारा क्रमशः 50.8 और 50.72 का औसत T20I क्रिकेट में उन खिलाड़ियों में सबसे अधिक है, जिन्होंने 500 रन बनाए हैं। हालांकि कुछ खिलाड़ी हैं जिनके पास इन दोनों स्टार एशियाई बल्लेबाजों की तुलना में अधिक बल्लेबाजी औसत है। आइए देखते हैं, वो कौन हैं-

1. हिरेन वरैया

1. हिरेन वरैया

मुंबई में पैदा हुए हिरेन वरैया ने 2006 और 2018 के बीच सभी प्रारूपों में केन्या की राष्ट्रीय टीम का प्रतिनिधित्व किया। बाएं हाथ के स्पिनर के पास किसी भी प्रारूप में काफी शानदार नंबर थे, लेकिन वह अपनी बल्लेबाजी के लिए नहीं जाने जाते थे। उन्होंने केन्या के लिए 25 टी 20 आई में हिस्सा लिया जहां उन्होंने 5.96 की इकॉनमी रेट से 18 विकेट लिए।

ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कहा- एक टाइम के बाद आप भूल जाते थे कौन सुशांत है कौन धोनी

केवल डैनियल विटोरी (5.70) ने वरैया की तुलना में बेहतर इकॉनोमी से बॉलिंग की है। मुम्बई में जन्मे क्रिकेटर को 12 पारियों में बल्लेबाजी करने के लिए मौका भी मिला जहां उन्होंने 51 की औसत से 51 रन बनाए।

हिरेन वरैया अपने 25 मैचों के टी 20 आई करियर में 12 में से 11 पारियों में नाबाद रहे।

2. मैथ्यू हेडन

2. मैथ्यू हेडन

टी 20 क्रिकेट मैथ्यू हेडन को अपना दबदबा दिखाने के लिए काफी देर से आया क्योंकि टी 20 प्रारूप में ऑस्ट्रेलियाई ओपनर के प्रयास इंडियन प्रीमियर लीग तक ही सीमित थे। हेडन ने चेन्नई सुपर किंग्स के लिए आईपीएल के पहले तीन संस्करणों में भाग लिया जहां उन्होंने 32 पारियों में 1107 रन बनाए। उन्होंने 36.90 की औसत और 137.5 की स्ट्राइक रेट से वो रन बनाए।

मैथ्यू हेडन को अपने T20I करियर के दौरान केवल नौ मैच खेलने को मिले, जिसमें से छह गेम 2007 में वर्ल्ड T20 के उद्घाटन संस्करण के दौरान खेले गए।

इस बल्लेबाज ने 51.33 के औसत और 143.92 के स्ट्राइक रेट से 308 रन बनाए। अकेले WT20 के दौरान, हेडन ने टूर्नामेंट के अग्रणी रन-स्कोरर के रूप में समाप्त करते हुए चार अर्द्धशतक की मदद से 88.33 के औसत से 265 रन बनाए।

3. उस्मान लिम्बाडा

3. उस्मान लिम्बाडा

उस्मान लिम्बाडा 2010 की शुरुआत में अक्सर कनाडा टीम से बाहर थे। लिंबाडा, जो मध्य क्रम के बल्लेबाज थे, निरंतरता हासिल करने में नाकाम रहे, यही कारण है कि उन्हें कभी कनाडा टीम में जगह नहीं मिली। उन्होंने 2010 और 2014 के बीच कनाडा के लिए कुल 18 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले - 11 एकदिवसीय और सात टी 20 आई।

मोहम्मद अजहरुद्दीन ने जताई भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनने की इच्छा

लिम्बाडा ने 2010 में एसोसिएट टूर्नामेंट के दौरान 2010 में तीन टी 20 आई खेले लेकिन उन्हें कभी बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला। बाद में, वह 2014 के डब्ल्यूटी 20 क्वालिफायर और 2013 में यूएई द्वारा आयोजित लीड-अप टूर्नामेंट का हिस्सा थे। उस्मान ने उस दौरान T20I के साथ चार मैचों में भाग लिया, लेकिन केवल तीन मैचों में बल्लेबाजी करने के लिए उनको मौका मिला और ये टीम थी केन्या।

उन्होंने No.7 पर तेज गति से बल्लेबाजी करते हुए 16 * और 21 * रन बनाए और नंबर 3 पर बल्लेबाजी करते हुए रन आउट होने से पहले 19 गेंदों पर 16 रन बनाए। यह T20I प्रारूप में उनकी अंतिम मौजूदगी थी। कुल मिलाकर, उस्मान लिम्बाडा ने तीन मैचों में 53 रन बनाए और केवल एक बार आउट हुए। इस प्रकार उनका औसत रहा 53.0

4. मार्कस ट्रेस्कोथिक

4. मार्कस ट्रेस्कोथिक

ट्रेस्कोथिक 2010 के मध्य तक सीमित ओवरों के क्रिकेट में इंग्लैंड के महान बल्लेबाज थे। उन्होंने आखिरी बार 2006 में एक अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था, 30 साल की उम्र में ही उनका करियर तनाव के कारण अचानक खत्म हो गया था। इस प्रकार, बाएं हाथ का खिलाड़ी ज्यादा T20I क्रिकेट नहीं खेल सका क्योंकि यह प्रारूप तब से एक साल पहले शुरू हुआ था।

कोहली कहते थे वो अब भी मेरी गर्लफ्रेंड है, वो कहती थी विराट एक्स बॉयफ्रेंड है: निक कॉम्पटन

हालांकि, वह इंग्लैंड की घरेलू टी 20 प्रतियोगिता में खेलते रहे, जो उन्होंने 2015 तक खेली थी। ट्रेस्कोथिक ने 89 टी 20 मैचों में 150.60 के शानदार स्ट्राइक रेट से 2365 रन बनाए और 13 गेंदों में अर्धशतक भी लगाया। बाएं हाथ का बल्लेबाज कुल तीन टी 20 आई मैचों में दिखा।

उन्होंने 2005 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू एशेज से पहले पदार्पण किया था जो इंग्लैंड का पहला टी 20 आई खेल भी था। ट्रेस्कोथिक ने 37 गेंदों में 41 रन बनाए और इंग्लैंड ने 100 रनों के अंतर से जीत हासिल की।

मार्कस ट्रेस्कोथिक ने बाद में 2006 में क्रमशः दो टी 20 आई - श्रीलंका और पाकिस्तान के खिलाफ खेले। उन्होंने लंका के खिलाफ 58 गेंदों में 72 रन बनाए लेकिन घरेलू टीम ने महज दो रन से मैच गंवा दिया। मार्कस ने बाद में पाकिस्तान की टीम के खिलाफ 36 गेंदों में 53 रन बनाए। कुल मिलाकर, ट्रेस्कोथिक ने तीन पारियों में 55.33 की औसत से 166 रन बनाए, वह भी 126.71 की स्ट्राइक रेट से।

5. ट्रैविस डॉवलिन

5. ट्रैविस डॉवलिन

ट्रैविस डॉवलिन को क्रिकेट बिरादरी द्वारा एमएस धोनी के इकलौते बॉलिंग शिकार के रूप में याद किया जाता है। ट्रैविस ने 2009 और 2010 के बीच छह टेस्ट, 11 वनडे और दो टी 20 मुकाबले खेले।

ट्रेविस ने बांग्लादेश के खिलाफ अपना T20I पदार्पण किया। उन्होंने 2009 में 119 के लक्ष्य का पीछा करते हुए 37 गेंदों में नाबाद 37 रन बनाए। उनकी पारी ने वेस्टइंडीज को 5 विकेट से जीत दर्ज करने में मदद की।

एससीजी में 2009-10 के ऑस्ट्रेलियाई दौरे के दौरान डाउलिन का दूसरा और अंतिम टी 20 आई था। बल्लेबाजी की शुरुआत करते हुए, उन्होंने 32 गेंदों में 31 रन बनाए। इस प्रकार, ट्रेविस डवलिन का टी 20 आई दो करियर दो पारियों में 68 रनों के साथ समाप्त हुआ जो 68 के औसत से आया।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Tuesday, June 16, 2020, 10:23 [IST]
Other articles published on Jun 16, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X