'अंपायर कॉल' पर हो सकता है क्रिकेट में बड़ा फैसला, लार के स्थायी प्रतिबंध पर भी चर्चा

लंदनः मेरिलबॉन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) के बारे में सबसे पहले यह आपको बता दें कि इस क्लब ने क्रिकेट का खेल काफी समय तक तय किया है और अब भी इसकी समिति खेल को प्रभावित करने का ओहदा रखती है। यहां आप क्रिकेट के नियमों पर चर्चाओं को अधिक देखते हैं। इसकी शक्तियां आईसीसी जैसी नहीं हैं लेकिन आज भी जब कोई क्रिकेट खेल नियम विवाद में आता है तब एमसीसी क्लब की राय बहुत मायने रखती है। एमसीसी क्लब लंदन के लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर स्थित है।

इस समय एससीसी में हॉट टॉपिक बना हुआ है- अंपायर कॉल। अंपायर कॉल कप्तानों के सिर के बाल नोचने वाला नियम है जिस पर आप सिवाए खीझ निकालने के और कुछ नहीं कर सकते।

यह तो सबको पता है कि जब खिलाड़ी मैदानी अंपायर के फैसले से संतुष्ट नहीं होते तो डीआरएस लिया जाता है। लेकिन अधिकतर मौकों पर डीआरएस अंपायर कॉल में तब्दील हो जाता है। अंपायर कॉल- यानी की जो फैसला अंपायर ने रिव्यू लेने से पहले दिया था वही अंतिम फैसला है। अंपायर कॉल का असली खेल पगबाधा यानी एलबीडब्लू में होता है।

ईशांत शर्मा के 100वां टेस्ट खेलने पर कोहली खुश, आज के पेसरों में ये है एक दुर्लभ उपलब्धि

एलबीडब्लू में डीआरएस लिया ही इसलिए जाता है क्योंकि मैदानी अंपायर का फैसला खिलाड़ी को संतुष्ट नहीं करता और फिर रिव्यू में चाहे खिलाड़ी आउट भी हो पर यह अंपायर कॉल हो जाएगी यदि गेंद ने विकेटों की गिल्लियों को क्लीन तरीके से नहीं उड़ाया है। यानी अंपायर ने यदि आउट दिया है तो आउट रहेगा, यदि उसी स्थिति में नॉट आउट दिया है तो नॉट रहेगा। अंपायर कॉल का यह मसला केवल पगबाधा आउट पर रहता है।

अब अंपायर कॉल शायद क्रिकेट में बंद हो सकती है क्योंकि एमसीसी में इस पर चर्चा हो चुकी है। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली, रिकी पोंटिंग, कुमार संगकारा और खेल के अन्य दिग्गज एमसीसी के सदस्यों में शामिल हैं। एमसीसी ने सोमवार को बैठक की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। यहां अंपायर कॉल को कैसिंल करके सीधा आउट या नॉट आउट किया जा सकता है।

हालांकि कुछ सदस्यों का कहना है कि अंपायर कॉल के बहाने कुछ तो मानवीय योगदान अभी डीआरएस में शामिल हैं वर्ना यह सब फैसला मशीनी हो जाएगा। सदस्यों काी राय इस साल के अंत में आईसीसी तक पहुंचाई जाएगी।

इसके अलावा अब लार पर लगाए अंतरिम प्रतिबंध को परमानेंट करने पर बात हो रही है। एमसीसी क्रिकेट समिति के कई सदस्य इस बात के पूरे समर्थन में हैं कि यह फैसला कोरोना समय में सबके हित में है।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Read more about: drs mcc
Story first published: Tuesday, February 23, 2021, 17:22 [IST]
Other articles published on Feb 23, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X