बाउंड्री नियम को लेकर विलियमसन-मॉर्गन के विचार अलग, क्या बोले दोनों कप्तान

नई दिल्ली: विश्व कप 2019 का फाइनल मैच जब लाइव चल रहा था तो इसके अलावा कुछ और सोचा भी नहीं जा सकता था। यह इतना रोमांचक था। मुकाबला खत्म होने के बाद पता चला कि 14 जुलाई के दिन दुनिया ने लॉर्ड्स में क्रिकेट के इतिहास का संभवतः सबसे महान मुकाबला देख लिया। ऐसे मैच जीवन में एक बार (Once in a Life Time) वाले होते हैं। ऐसे में जब यह मैच समाप्त होकर किवदंती बन गया है तो आईसीसी के बाउंड्री नियम की धज्जियां उड़नी शुरू हो गई हैं। ये वही बाउंड्री नियम है जिसके चलते न्यूजीलैंड को मैच टाई होने के बाद भी विश्व कप इंग्लैंड को थमाना पड़ा।

यह नियम पचाना है मुश्किल-

यह नियम पचाना है मुश्किल-

कीवी कप्तान केन विलियमसन ने मैच के बाद कहा है- यह बात पचानी बहुत मुश्किल है कि विश्व कप के विजेता का फैसला बाउंड्री लगाने के आधार पर किया गया। बता दें कि इंग्लैंड ने इस मुकाबले में जहां 26 बाउंड्री यानी चौके-छक्के लगाए थे तो वहीं न्यूजीलैंड केवल 17 ही लगा पाया था। यह आंकड़े सुपर ओवर को मिलाकर हैं। जब विलियमसन से यह पूछा गया कि क्या आप इस नियम से संतुष्ट हैं तो उन्होंने मुस्कराकर कहा- 'मैं समझता हूं ना तो आपने यह सोचा था कि आप ये सवाल करेंगे और ना ही मैंने सोचा था कि मैं ऐसा जवाब दूंगा। हां, काफी भावनाएं उमड़ी हुई हैं। जब दो टीमें इतनी ज्यादा मेहनत करती हैं और नतीजा इस तरह से आता है तो उसको पचाना काफी मुश्किल है।'

बाउंड्री काउंट नियम पर मॉर्गन के विचार जुदा

बाउंड्री काउंट नियम पर मॉर्गन के विचार जुदा

इसके साथ ही विलियमसन ने कहा कि खेल के शुरू से ही नियम मौजूद रहते हैं। इसके बावजूद नतीजे को स्वीकारना बहुत कठिन है। विलियमसन ने कहा- 'नियम मैच होने के समय से ही मौजूद थे। लेकिन उसके बाद भी यह कोई नहीं सोचा जा सकता कि हम एक बाउंड्री फालतू लगाकर जीत हासिल कर लेंगे यदि मैच दो बार टाई हो गया तो। ना ही इंग्लैंड ने ऐसा सोचा होगा। मुझे तो यह भी नहीं पता कि हम कितनी बाउंड्री से हार गए। हां, यह बहुत, बहुत मुश्किल है.....हां, आप समझ रहे हैं।' लेकिन इस मामले में विश्व कप चैंपियन कप्तान इयोन मॉर्गन की राय थोड़ी जुदा है।

कप उठाने की तैयारी मैच से पहले ही कर ली थी-

कप उठाने की तैयारी मैच से पहले ही कर ली थी-

मॉर्गन कहते हैं कि हमको मैच से पहले ही इस नियम के बारे में जागरूकता थी। इसके बाद जब इंग्लैंड रनों का पीछा कर रहा था तब भी वे इसको लेकर बातचीत कर रहे थे। इंग्लिश कप्तान ने कहा- 'जब हम रनों का पीछा करते हुए काफी करीब पहुंच गए तो हमने यह खुद को यह याद दिलाया कि यह मुकाबला सुपर ओवर में जा सकता है या फिर नहीं। इसके अलावा हमने बैटिंग करने से पहले चौथे अंपायर अलीम दार के साथ बातचीत करके भी उनकी पुष्टी ली थी। हमने फील्डिंग पर जाने से पहले भी चेंजिंग रूम में भी इस बारे में बात की थी।'

जिस नियम से इंग्लैंड ने जीता वर्ल्ड कप, रोहित शर्मा ने उसपर उठाए सवाल

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Monday, July 15, 2019, 17:01 [IST]
Other articles published on Jul 15, 2019
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X