जब अखबार में नाम छपवाने के लिये सचिन तेंदुलकर ने की बेइमानी, खाते में डलवाये एक्स्ट्रा 6 रन

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक और क्रिकेट में भगवान का दर्जा हासिल करने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर के 24 साल भारतीय क्रिकेट को समर्पित किये। इस दौरान उन्होंने कई बड़े रिकॉर्ड और कीर्तिमान भी अपने नाम किये। सचिन तेंदुलकर ने अपने पूरे करियर के दौरान इतने रिकॉर्ड धारी पारियां खेली कि शायद ही ऐसा कोई मैच होगा जिसके अगले दिन उनका नाम किसी अखबार या मीडिया हाउस के प्लैटफॉर्म पर न आया हो।
लेकिन इस बात के बारे में बेहद कम लोग जानते हैं कि शुरुआती दिनों में अपना नाम अखबार में छपवा सकें इसके लिये सचिन तेंदुलकर न बेइमानी की थी।

और पढ़ें: कोरोना वायरस के चलते इन 5 खिलाड़ियों के लिए बंद हो सकते भारतीय टीम के दरवाजे

हालांकि इस बात का पछतावा सचिन तेंदुलकर को आज भी है जब उन्होंने अखबार में नाम छपवाने के लिये अपने खाते में 6 रन एकस्ट्रा डलवा लिये थे। अखबार में नाम आने के बाद जो कुछ हुआ वह सचिन तेंदुलकर को आज भी याद है।

और पढ़ें: वसीम जाफर ने चुनी अपनी ऑल-टाइम टी20 XI टीम, सिर्फ एक भारतीय खिलाड़ी को मिली जगह

सचिन ने अपनी आत्मकथा में किया खुलासा

सचिन ने अपनी आत्मकथा में किया खुलासा

सचिन तेंदुलकर ने अपनी आत्मकथा 'प्लेइंग इट माय वे' में इस किस्से का खुलासा करते हुए बताया कि कैसे अखबार में नाम छपवाने के लिये उन्होंने स्कोरर की मदद से अपने खाते में 6 रन एक्स्ट्रा जुड़वा लिये थे।

इस किस्से के बारे में बात करते हुए सचिन ने लिखा, 'यह बात स्कूल के दिनों की है जब मैंने अपना पहला मैच खेला। यह मैच मेरे लिये बहुत बुरा नहीं बीता था। मैंने अपनी टीम के लिये 24 रन बनाए और हम मैच जीत गए थे। लेकिन इस मैच के दौरान ऐसा कुछ घटा जिससे मैंने बेहद अहम सबक सीखा और यह घटना आज भी याद है। इसने मुझे सिखाया कि कभी भी अनैतिक तरीकों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।'

स्कोरर की मदद से जोड़े थे एकस्ट्रा 6 रन

स्कोरर की मदद से जोड़े थे एकस्ट्रा 6 रन

इस घटना के बारे में बात करते हुए सचिन ने आगे लिखा, 'यह घटना उस वक्त की है जब पहली बार अखबार में मेरा नाम छपा, इसे एक अच्छी याद होना चाहिये था पर मेरे लिये यह वो बात है जो आज तक सालती है। मुंबई में उस वक्त एक नियम सा था कि अखबार में किसी भी खिलाड़ी का नाम तभी छपता था जब उसने कम से कम 30 रन बनाये हों। अपने पहले मैच में मैंने 24 रन बनाये थे, लेकिन टीम के स्कोरर ने मुझे सलाह दी कि वह अतिरिक्त रनों के खाते में से मेरे स्कोर में 6 रन जोड़ देंगे। इससे किसी पर नहीं पड़ेगा। टीम का स्कोर नहीं बदल रहा था तो मैंने हां कर दी। हालांकि मुझे इस बात का बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि मैं किस झमेले में पड़ने जा रहा हूं।'

नाम छपने के बाद जानें क्या हुआ

नाम छपने के बाद जानें क्या हुआ

सचिन तेंदुलकर ने बताया कि स्कोर बदलने की वजह से उनका नाम अखबार में तो छप गया लेकिन उसकी वजह से जो हुआ वह उन्हें जिंदगी भर याद है।

उन्होंने कहा,'अगली सुबह मेरा नाम मुंबई के अखबार में छपा लेकिन इससे आचरेकर सर बेहद नाराज हुए। उन्होंने मुझे फटकारा कि मैंने जो रन बनाए ही नहीं , उन्हें अपने खाते में कैसे जुड़वा लिए। मुझे भी अफसोस हो रहा था, मैंने अपनी गलती मान ली और सर से वादा किया कि दोबारा कभी ऐसा नहीं होने दूंगा।'

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, April 22, 2020, 15:53 [IST]
Other articles published on Apr 22, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X