नीरज चोपड़ा ने थल सेना प्रमुख से की मुलाकात, आर्मी राजपुताना राइफल्स ने किया अभिवादन

नई दिल्लीः थल सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी में स्टार जेवलिन थ्रोअर और सेना में सूबेदार नीरज चोपड़ा से मुलाकात की और उनका अभिवादन किया। चोपड़ा ओलंपिक खेलों में ट्रैक और फील्ड स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय हैं।

सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने नीरज चोपड़ा को उनके ऐतिहासिक स्वर्ण पदक जीतने वाले प्रदर्शन के लिए बधाई दी। उन्होंने नीरज के परिवार के सदस्यों से भी मुलाकात की, जो अपने बेटे को लेने के लिए पानीपत से दिल्ली आए थे।

नीरज चोपड़ा और उनके परिवार के सदस्यों की जनरल एमएम नरवने से मुलाकात की तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा की गईं।

नीरज चोपड़ा सेना में सूबेदार हैं। उन्होंने 2016 में 4 राजपूताना राइफल्स में सीधी एंट्री के तौर पर नायब सूबेदार के रूप में दाखिला लिया था। उन्हें पुणे में मिशन ओलंपिक विंग और आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट में प्रशिक्षण के लिए चुना गया था। विशेष रूप से, राजपूताना राइफल्स के जवानों को 7 अगस्त को नीरज के स्वर्ण पदक जीतने वाले थ्रो का जश्न मनाते देखा गया था।

बार्सिलोना छोड़ने के बाद लियोन मेसी ने इस क्लब के साथ मिलाया हाथबार्सिलोना छोड़ने के बाद लियोन मेसी ने इस क्लब के साथ मिलाया हाथ

इस बीच, राजपूताना राइफल्स के कर्नल लेफ्टिनेंट जनरल कंवल जीत सिंह ढिल्लों ने नीरज चोपड़ा को पहलवान दीपक पुनिया के साथ सम्मानित किया, जो टोक्यो ओलंपिक में चौथे स्थान पर रहे थे। उन्हें क्रमश: 6 लाख रुपये और 4 लाख रुपये का नकद इनाम दिया गया।

नीरज, जो विश्व जूनियर रिकॉर्ड तोड़कर सुर्खियों में आए, खेल के सबसे बड़े चरणों में भारत के सबसे लगातार प्रदर्शन करने वालों में से एक रहे हैं। 2018 में कॉमनवेल्थ गेम्स डबल और एशियन गेम्स डबल पूरा करने के बाद, नीरज ने ओलंपिक स्वर्ण जीतने के अपने सपने को हासिल करने के लिए चोट के झटके और कोविड -19 महामारी की बाधाओं पर काबू पा लिया।

सच ये है नीरज ने टोक्यो ओलंपिक सबसे खास बना दिया है, उनका प्रदर्शन नायाब रहा क्योंकि वे अन्य सभी भारतीय दलों के सदस्य से अलग थे, उन्होंने पूरे स्वैग के साथ ट्रैक अपना बना लिया, ना कोई दबाव था, ना ही ओलंपिक के तिलिस्म में खो जाने का डर। नीरज को ओलंपिक फाइनल का दबाव महसूस नहीं हुआ। उन्होंने क्वालिफिकेशन राउंड में ही बाकी फील्ड को चेतावनी नोटिस भेजा। वे मनमौजी की तरह आए, 86.64 मीटर दूरी पर जेवलिन फेंका और अपना बैग पैक किया और चल दिए।

फाइनल में, नीरज ने अपने पहले प्रयास में 87.03 मीटर थ्रो के साथ प्रतिद्वंदियों को बगलें झांकने पर मजबूर कर दिया। नीरज नाम का तूफान टोक्यो में 7 अगस्त को ऐसा चला कि दूसरे प्रयास के लिए 87.58 मीटर का मार्क दर्ज हो गया। ये भारतीय खेल इतिहास का सबसे स्वर्णिम मार्क है। नीरज जानते थे उन्होंने कुछ खास किया है, खुशी से अपनी बाहों को ऊपर उठाया।

अंत में, यह विजयी थ्रो निकला जिससे गोल्ड मेडल मिला और हर देशवासी को लंबे समय तक गर्व करने की वजह।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, August 11, 2021, 9:42 [IST]
Other articles published on Aug 11, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X