अब नहीं होगी चयनकर्ता, टीम मैनेजमेंट और खिलाड़ियों के बीच नोंक झोंक, BCCI ने तैयार किया खास प्लान

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के मैनेजमेंट, चयनकर्ताओं और खिलाड़ियों के बीच हाल ही में कम्यूनिकेशन गैप की खबरों को लेकर बीसीसीआई ने किसी भी तरह की टिप्पणी करने से इंकार कर दिया था, हालांकि अब बीसीसीआई ने इस समस्या को जड़ से खत्म करने के लिये हस्तक्षेप करने की तैयारी कर ली है और ऐसा प्लान तैयार किया है कि आने वाले समय में ऐसी किसी भी समस्या से टीम को मुश्किलों का सामना न करना पड़े। बीसीसीआई ने इस मामले को ध्यान में रखते हुए एक ब्लूप्रिंट तैयार किया है जिसके तहत आने वाले समय में टीम को बनाने और उसके भविष्य को तैयार करने में खेल के इन अहम पक्षों में किसी भी तरह का कम्यूनिकेशन गैप न आये।

और पढ़ें: IND vs ENG: लॉर्ड्स टेस्ट से पहले इंग्लैंड को लगा बड़ा झटका, 500 से ज्यादा विकेट लेने वाला गेंदबाज हुआ चोटिल

उल्लेखनीय है कि बीसीसीआई ने यह फैसला कप्तान विराट कोहली के उस बयान के बाद किया है जिसमें विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल मैच में न्यूजीलैंड से मिली हार के बाद भारतीय कप्तान ने कहा था कि टीम बदलाव के चरण के लिये तैयार है। इस बीच कई खिलाड़ियों ने चयनकर्ताओं और टीम मैनेजमेंट की ओर से बातचीत के दौरान पारदर्शिता की कमी का भी आरोप लगाया था।

और पढ़ें: 1st Test: बॉयकॉट ने बताई नॉटिंघम में इंग्लिश बल्लेबाजों के फेल होने की वजह, क्यों भारतीय गेंदबाज रहे बेस्ट

BCCI ने किया है ओपन चैनल खोलने का फैसला

BCCI ने किया है ओपन चैनल खोलने का फैसला

इन सभी कारणों को ध्यान में रखते हुए बीसीसीआई ने एक ओपन चैनल शुरू करने का फैसला किया है जिसमें खिलाड़ी और चयनकर्ताओं के बीच किसी भी तरह की कन्फ्यूजन से बचा जा सके। टाइम्स ऑफ इंडिया के सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार चीफ सेलेक्टर चेतन शर्मा ने इसको लेकर बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली के साथ कई दौर की बैठक की है और उसके बाद यह फैसला लिया गया है।

बीसीसीआई के एक उच्च अधिकारी ने इस पर जानकारी देते हुए कहा,' ट्रॉन्जिशन के दौरान कुछ ऐसी समस्याओं पर ध्यान दिलाया गया जिसमें सही मैसेज पहुंचने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। जिसको देखते हुए बोर्ड ने एक नया सिस्टम बनाने का फैसला किया है जिसमें टीम के खिलाड़ी और मैनेजमेंट के अधिकारी बिना किसी देरी के अपनी बात को सीधे रख सकते हैं।'

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल के बाद तेज हुई मांग

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल के बाद तेज हुई मांग

रिपोर्ट के अनुसार विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप की हार के बाद शुबमन गिल के चोटिल होकर दौरे से बाहर होने पर भी ऐसी समस्या का सामना करना पड़ा था, जिसमें टीम मैनेजमेंट के अभिमन्यु ईश्वरन और मयंक अग्रवाल जैसे दो सलामी बल्लेबाज होने के बावजूद टीम मैनेजमेंट ने पृथ्वी शॉ को दौरे पर भेजने की मांग की थी, जो कि उस समय श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवर्स सीरीज का हिस्सा थे। इसके अनुसार चयनकर्ताओं ने टीम मैनेजमेंट की मांग को मानने से इंकार कर दिया था।

हालांकि वार्म अप मैच के दौरान वाशिंगटन सुंदर और आवेश खान के चोटिल होकर बाहर हो जाने पर चयनकर्ताओं ने पृथ्वी शॉ और सूर्यकुमार यादव को बतौर रिप्लेसमेंट इंग्लैंड भेजने का फैसला किया। दोनों खिलाड़ियों ने श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवर्स प्रारूप की सीरीज समाप्त होने के बाद इंग्लैंड के लिये उड़ान भरी है और फिलहाल क्वारंटीन में समय गुजार रहे थे।

घरेलू स्तर के खिलाड़ियों को भी मिलेगा फायदा

घरेलू स्तर के खिलाड़ियों को भी मिलेगा फायदा

गौरतलब है कि इसके अलावा भी बीसीसीआई ने यह कदम घरेलू क्रिकेटर्स को ध्यान में रखते हुए उठाया है, जिनके अनुसार कई बार ऐसी समस्या सामने आयी है जिसमें खिलाड़ियों ने चयनकर्ताओं के साथ कम्यूनिकेशन गैप का आरोप लगाते हुए बाहर करने की बात कही है। आपको बता दें कि बीसीसीआई इस चैनल के जरिये घरेलू स्तर पर चीजों को सुलझाने की कोशिश कर रही है ताकि चयन प्रक्रिया में पार्दर्शिता को बढ़ावा दिया जा सके और खिलाड़ियों की समस्यायें सीधे बोर्ड तक पहुंच सके।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Wednesday, August 11, 2021, 15:38 [IST]
Other articles published on Aug 11, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X