विराट कोहली के डिप्रेशन वाले बयान पर फारुख इंजीनियर ने उठाये सवाल, अनुष्का को लेकर किया कमेंट

Farokh Engineer has an endearing take on Virat Kohli & Anushka’s relationship | वनइंडिया हिन्दी

Farokh Engineer on Virat Kohli Depression Comments says How can someone get depression with beautiful Wife like Anushka Sharma: नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच जारी 4 मैचों की टेस्ट सीरीज के बीच भारतीय कप्तान विराट कोहली ने हाल ही में बड़ा खुलासा करते हुए अपने करियर के उस दौर के बारे में बात की थी जिसमें वह अपनी खराब फॉर्म से जूझ रहे थे। साल 2014 में इंग्लैंड दौरे पर पहुंचे भारतीय कप्तान विराट कोहली उस वक्त बतौर खिलाड़ी ही खेल रहे थे लेकिन उस वक्त वह रन बना पाने में नाकाम हो रहे थे। इस दौरान उनकी पत्नी और तत्कालीन गर्लफ्रैंड अनुष्का शर्मा को लेकर भी लोग काफी बातें कर रहे थे कि उनके चलते कोहली के प्रदर्शन में गिरावट देखने को मिली है।

IND vs ENG: ICC से मोटेरा पिच की शिकायत करने को लेकर जानें क्या बोले इंग्लैंड कोच

साल 2014 में विराट कोहली ने 5 टेस्ट मैचों की 10 पारियों में 13.50 की औसत से रन बनाते हुए 1, 8, 25, 0, 39, 28, 0,7, 6 और 20 रन की पारियां खेली थी। इस घटना के करीब 7 साल बाद विराट कोहली ने अहमदाबाद में हुए तीसरे टेस्ट मैच से पहले खुलासा किया था कि इन घटनाओं ने उन्हें मानसिक रूप से इस कदर प्रभावित किया था कि वह डिप्रेशन का शिकार हो गये थे।

वेस्टइंडीज की टीम में वापस लौटे गेलस्टोर्म, 9 साल बाद लौटा यह कैरिबियाई खिलाड़ी

खूबसूरत अनुष्का के होते हुए कैसे डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं कोहली

खूबसूरत अनुष्का के होते हुए कैसे डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं कोहली

वहीं अब इस मामले को लेकर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज फारुख इंजीनियर ने विराट कोहली के इस खुलासे पर सवालिया निशान खड़े करते हुए उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा पर बड़ा बयान दे डाला है। फारुख इंजीनियर का मानना है कि विराट कोहली डिप्रेशन का शिकार हो ही नहीं सकते हैं।

फारुख इंजीनियर ने स्पोर्टसकीड़ा के साथ बात करते हुए कहा,'अनुष्का शर्मा जैसी खूबसूरत पत्नी के होते हुए किसी का डिप्रेशन का शिकार होना गले नहीं उतरता है। विराट कोहली अब पिता बन चुके हैं और अनुष्का जैसी पत्नी होने के बाद आप कैसे डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं।'

बीमारी नहीं पश्चिमी देशों की सोच है डिप्रेशन

बीमारी नहीं पश्चिमी देशों की सोच है डिप्रेशन

फारुख इंजीनियर का मानना है कि डिप्रेशन कोई बीमारी नहीं बल्कि पश्चिमी देशों की एक नकारात्मक सोच है, जिससे लड़ने के लिये भारतीयों के पास ऐसी ऊर्जा होती है जो उसके प्रभाव को बेअसर कर देती है। फारुख इंजीनियर का मानना है कि पश्चिमी देशों के मुकाबले भारतीय नागरिकों की मानसिक स्थिति बहुत अच्छी है।

उल्लेखनीय है विराट कोहली ने हाल ही में इंग्लैंड के दौरे पर डिप्रेशन के अपने अनुभव के बारे में बात की और बताया कि कैसे इससे उबरने के लिये उन्होंने मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से बात की जिन्होंने उन्हें उबरने में काफी मदद की और जब वो वापस लौटे तो दमदार तरीके से रनों की बारिश कर डाली।

बड़े ग्रुप का हिस्सा होने के बाद भी अकेला महसूस कर रहे थे कोहली

बड़े ग्रुप का हिस्सा होने के बाद भी अकेला महसूस कर रहे थे कोहली

आपको बता दें कि विराट ने कहा था कि डिप्रेशन को लेकर आपको पता ही नहीं होता है कि इससे बाहर कैसे निकलना है। इंग्लैंड दौरे पर मैं चीजों को बदलने के लिये कुछ भी कर गुजरने को तैयार था। मेरी जिंदगी में साथ देने वाले इतने लोग होने के बावजूद मैं अकेला महसूस कर रहा था और बाहर निकलने के लिये प्रोफेशनल की जरूरत पड़ी।

विराट कोहली ने बताया कि मेरे लिये यह खुद एक अलग अनुभव था कि अपने आस-पास इतना बड़ा ग्रुप होने के बावजूद मैं अकेला महसूस कर रहा था।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, February 27, 2021, 17:21 [IST]
Other articles published on Feb 27, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X