ये है साल 2021 की फ्लॉप ऑल-फॉर्मेट XI, लिस्ट में 3 भारतीय शामिल

नई दिल्ली। साल 2021 लगभग समाप्त होने वाला है और इस साल क्रिकेट में कई नए सितारे कदम रखते हुए दिखे। इस साल दर्शकों को एक टी20 विश्व कप भी देखने को मिला, जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने फाइनल में न्यूजीलैंड को हराकर जीता था। हमने न्यूजीलैंड को भारत के खिलाफ पहली बार विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल जीतते हुए भी देखा। बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान को टी20आई में खूब रन बनाते भी देखा, लेकिन हर खिलाड़ी का प्रदर्शन इनकी तरह नहीं रहाऔर कई खिलाड़ी ऐसे भी रहे जो टीम के लिए बहुत अहम हैं, लेकिन जरूरत पड़ने पर प्रदर्शन करने में विफल रहे। ऐसे में हम साल 2021 की फ्लॉप ऑल-फॉर्मेट XI आपके सामने लेकर आए हैं। आइए देखें काैन हैं इनमें शामिल-

यह भी पढ़ें- IND vs SA : टेस्ट सीरीज के दाैरान इन 5 भारतीय खिलाड़ियों पर रहेगी सबकी नजर

1. क्रिस गेल

1. क्रिस गेल

क्रिस गेल ने आखिरी बार सितंबर 2014 में एक टेस्ट मैच और अगस्त 2019 में आखिरी वनडे खेला था। हालांकि, टी20 एक ऐसा प्रारूप है जिसमें वह प्रदर्शन करना पसंद करते हैं और अभी भी हार मानने को तैयार नहीं हैं। वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड (डब्ल्यूआईसीबी) ने गेल को टी20 विश्व कप 2021 के लिए टीम में शामिल किया ताकि वह टीम को लगातार दूसरी बार ट्रॉफी उठाने में योगदान दे सकें। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। गेल ने पांच मैचों में 85.33 के स्ट्राइक रेट से 45 रन बनाए। वेस्टइंडीज ने बांग्लादेश के खिलाफ केवल एक मैच में तीन रन से जीत हासिल की और बाकी मैच हारकर अगले चरण के लिए क्वालीफाई करने में विफल रही। कुल मिलाकर, गेल ने इस साल 21 टी20 मैचों में 15.11 के औसत और 112.39 के स्ट्राइक रेट से 272 रन बनाए। वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड को गेल से काफी उम्मीदें थीं, क्योंकि यह स्पष्ट है कि उन्होंने अपने पूरे करियर में पहली बार एक साल में 20 से अधिक टी20 मैच खेले।

2. एरोन फिंच

एरोन फिंच के कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने टी20 विश्व कप 2021 जीता। वह विश्व कप आयोजन में अपनी टीम को जीत दिलाने वाले पांचवें ऑस्ट्रेलियाई कप्तान बने तो टी20आई विश्व कप जीतने वाले पहले कंगारू कप्तान बने। ऑस्ट्रेलिया ने भले ही इस साल फिंच की कप्तानी में एक सफल दाैर बनाया हो, लेकिन वह खुद पूरे साल अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं थे। फिंच ने टी20 वर्ल्ड कप 2021 में सात मैचों में 19.28 के औसत और 116.37 के स्ट्राइक रेट से 135 रन बनाए। वह अर्धशतक लगाने में असफल रहे और उनका सर्वाधिक 44 रन का स्कोर इंग्लैंड के खिलाफ आया। फिंच ने इस साल 17 T20I खेले और 28.68 के औसत और 125.06 के स्ट्राइक रेट से केवल 459 रन बनाए। टूर्नामेंट के बाद, उन्होंने घुटने की सर्जरी के कारण हुए घुटने के दर्द से उबरने के लिए आराम किया।

3. ग्लेन मैक्सवेल

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए ग्लेन मैक्सवेल का आईपीएल 2021 में एक ड्रीम सीजन था। उन्होंने 15 मैचों में 42.75 के औसत और 144.10 के स्ट्राइक रेट से 513 रन बनाए। इस कार आरसीबी ने उन्हें आईपीएल 2022 के लिए भी रिटेन किया है। हालांकि, जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बात आती है तो मैक्सवेल का साल काफी खराब रहा। T20 WC 2021 में मैक्सवेल ने सात मैचों में 64 रन बनाए और केवल दो बार दोहरे अंकों के स्कोर तक पहुंचे। मैक्सवेल ने न्यूजीलैंड के खिलाफ फाइनल में 33 गेंदों पर 28 रन बनाए थे, जिसमें चार चौके और एक छक्का शामिल था। लेकिन इससे पहले टूर्नामेंट में खेले मैचों में मैक्सवेल केवल दो चौके लगाए थे। कुल मिलाकर, मैक्सवेल ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 12 T20I मैच खेले और 17.44 के औसत और 135.34 के स्ट्राइक रेट से केवल 157 रन बनाए। उन्होंने 3 मार्च, 2021 को न्यूजीलैंड के खिलाफ अर्धशतक बनाया और यह एकमात्र मौका था जब वह इस साल ऑस्ट्रेलिया के लिए 30 से अधिक रन बना सके।

4. इयोन मोर्गन

4. इयोन मोर्गन

इयोन मोर्गन ने इस साल इंग्लैंड के सीमित ओवरों के कप्तान के रूप में सफल प्रदर्शन किया। लेकिन, बतौर बल्लेबाज उन्होंने साल भर संघर्ष जारी रखा। मॉर्गन ने चार वनडे में 79.23 के स्ट्राइक रेट से 103 रन बनाए। T20I में, मॉर्गन ने 16 मैचों में 16.66 के औसत और 120 के स्ट्राइक रेट से 150 रन बनाए। यह एक साल में उनका सबसे कम स्कोर है जब उन्होंने दस से अधिक मैच खेले। टी20 वर्ल्ड कप 2021 में इंग्लैंड ने अपने सभी लीग मैच जीते और न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में हार गई। टूर्नामेंट में मॉर्गन ने छह मैचों में 68 रन बनाए थे।

5. अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे ने आखिरी बार फरवरी 2018 में वनडे मैच और अगस्त 2016 में एक टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। लेकिन, जब टेस्ट क्रिकेट की बात आती है तो वह भारत के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक रहे हैं। रहाणे ने 79 टेस्ट मैचों में 4795 रन बनाए हैं और पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीत के लिए भारत की कप्तानी की थी। हालांकि, इस साल गतिशीलता बदल गई क्योंकि रहाणे ने रन बनाने के लिए संघर्ष किया। वह 12 मैचों में 19.57 की औसत से केवल 411 रन ही बना सके, जिसमें दो अर्धशतक भी शामिल हैं। रहाणे इस साल शतक बनाने में नाकाम रहे। निराशाजनक प्रदर्शन की एक सीरीज के बाद, उन्हें इस महीने न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट के लिए टीम से बाहर कर दिया गया था। साथ ही भारतीय चयनकर्ताओं ने उन्हें टेस्ट टीम के उपकप्तान के पद से हटा दिया।

6. मुशफिकुर रहीम

बांग्लादेश के लिए मुशफिकुर रहीम हर प्रारूप में सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ी हैं। उन्होंने कई मौकों पर टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन किया है और उन्हें मैच विजेता माना जाता है। हालांकि, वर्ष 2021 रहीम के लिए सबसे अच्छा नहीं था क्योंकि वह टीम के लिए छाप छोड़ने में असफल रहे। टी20 वर्ल्ड कप 2021 में उन्होंने आठ मैचों में 20.57 के औसत और 113.38 के स्ट्राइक रेट से 144 रन बनाए, जिसमें एक अर्धशतक भी शामिल है। रहीम ने टेस्ट क्रिकेट में सात मैचों में 443 रन बनाए और शतक लगाने में नाकाम रहे। उन्होंने बांग्लादेश के लिए नौ वनडे मैचों में भाग लिया और 76.64 की स्ट्राइक रेट से 407 रन बनाए। T20I मैचों में रहीम 13 मैचों में 18.30 की औसत से केवल 183 रन ही बना सका।

7. हार्दिक पांड्या

भारत के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या कभी ऐसे खिलाड़ी थे जिनकी टीम को सख्त जरूरत रहती थी। वह टीम के लिए मैच खत्म कर रहा था और महत्वपूर्ण मैचों में विकेट ले रहा था। हालांकि, 2021 वह साल नहीं था जिसे हार्दिक याद रखना पसंद करेंगे। छह वनडे मैचों में पांड्या ने 23.80 की औसत से 119 रन बनाए और केवल एक अर्धशतक ही बना सके, जो इंग्लैंड के खिलाफ आया था। हार्दिक ने 28 मार्च 2021 को इंग्लैंड के खिलाफ 63 गेंदों में 64 रन बनाए थे। T20I मैचों में, उन्होंने 11 मैचों में 27.50 की औसत से 165 रन बनाए। उन्होंने इस साल दो बार 30 से अधिक रन बनाए और अर्धशतक तक पहुंचने में असफल रहे।

8. टेस्ट स्टुअर्ट

8. टेस्ट स्टुअर्ट

दूसरा एशेज टेस्ट स्टुअर्ट ब्रॉड के करियर का 150वां टेस्ट था। उन्होंने टेस्ट मैचों में 27.92 की औसत से 526 विकेट लिए हैं। जेम्स एंडरसन और ब्रॉड टेस्ट क्रिकेट की घातक जोड़ी में से एक हैं। हालांकि, इस साल ब्रॉड के लिए कुछ खास नहीं रहा। उन्होंने सात मैचों में 39.50 की औसत से केवल 12 विकेट लिए। वह इस साल किसी एक पारी में 5 विकेट लेने में भी विफल रहे और 48 रन देकर चार विकेट की उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का आंकड़ा न्यूजीलैंड के खिलाफ बर्मिंघम टेस्ट की पहली पारी में आया था। उन्होंने भारत के खिलाफ चेन्नई और अहमदाबाद में दो टेस्ट मैच खेले। वह इन दोनों मैचों में 43 ओवर की गेंदबाजी के बाद भी एक भी विकेट लेने में नाकाम रहे। वहीं पिछले साल ब्रॉड ने आठ मैच खेले और 14.76 की औसत से 38 विकेट चटकाए थे।

9. लुंगी एनगिडी

लुंगी एनगिडी ने श्रीलंका के खिलाफ एक T20I मैच में अपने डेब्यू पर प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार जीता था। जब उन्होंने भारत के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया, तो उन्होंने फिर से वही पुरस्कार अर्जित किया। उन्होंने जो दस टेस्ट मैच खेले हैं, उनमें एनगिडी ने 23.31 की औसत से 32 विकेट लिए हैं। उनके नाम 29 वनडे मैचों में 54 विकेट हैं और उन्होंने 23 टी20आई मैचों में 36 विकेट लिए हैं। हालांकि, 2021 में एनगिडी साउथ अफ्रीकी टीम प्रबंधन को प्रभावित करने में नाकाम रही है। एनगिडी ने चार टेस्ट मैचों में 19.14 की औसत से 14 विकेट चटकाए। तीन वनडे मैचों में उन्होंने केवल एक विकेट लिया और सात टी20आई में आठ विकेट लिए। उनकी फॉर्म में गिरावट इसलिए है कि एनगिडी ने जुलाई 2021 से साउथ अफ्रीका के लिए कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है।

10. रवि रामपॉल

वेस्टइंडीज ने टी20 विश्व कप 2021 में रवि रामपॉल को शामिल कर सबको हैरान किया था। उन्होंने आखिरी बार 2015 में वेस्टइंडीज के लिए एक T20I मैच खेला था। हालांकि, फ्रैंचाइजी क्रिकेट में उनका प्रदर्शन उनके लिए टीम में लौटने के लिए काफी था। रामपॉल सीपीएल 2021 में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे क्योंकि उन्होंने दस मैचों में 16.21 की औसत से 19 विकेट लिए थे। उन्होंने दुनिया भर की टीमों के लिए 171 टी20 मैचों में 21.40 की औसत, 7.64 की इकॉनमी और 16.8 की स्ट्राइक रेट से 219 विकेट लिए हैं। लेकिन साल 2021 में उनकी अंतराष्ट्रीय टीम में वापसी हुई तो टी20 विश्व कप 2021 में वह चार मैचों में सिर्फ दो विकेट लेने में सफल रहे थे। टूर्नामेंट के दौरान रामपॉल का औसत 49 का था। उनके अप्रभावी प्रदर्शन के कारण उन्हें टी20 विश्व कप के बाद टीम से बाहर कर दिया गया था।

11. वरुण चक्रवर्ती

भारतीय टीम में जब वरुण चक्रवर्ती की एंट्री हुई तो उन्हें रहस्मयी गेंदबाज माना जाता था। इंडियन प्रीमियर लीग में उनके प्रदर्शन ने उन्हें मिस्ट्री स्पिनर बना दिया। उनके लिए बड़ा मौका तब आया जब भारतीय टीम ने उन्हें टी20 वर्ल्ड कप के लिए चुना। चक्रवर्ती ने पाकिस्तान के खिलाफ टी20 विश्व कप में डेब्यू किया और विकेट लिए बिना अपनी छाप छोड़ने में असफल रहे। न्यूजीलैंड और स्कॉटलैंड के खिलाफ मैचों में वही स्क्रिप्ट रिपीट मोड पर थी। तीन मैचों में वह फ्लाॅप रहे तो भारत ने उसे प्लेइंग 11 से हटा दिया और वह इस इवेंट में एक भी विकेट लेने में असफल रहे। चक्रवर्ती ने इस साल भारत के लिए छह T20I मैच खेले, जिसमें 2 विकेट ही ले सके। यह दो विकेट जुलाई 2021 में श्रीलंका के खिलाफ आए थे।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Friday, December 24, 2021, 12:35 [IST]
Other articles published on Dec 24, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X