दूध बेचा, अखबार बांटे, सामान ढोया..अब अंडर-19 कप्तान बन बेटे ने पूरा किया सपना

नई दिल्ली: प्रियम गर्ग को भारत की अंडर-19 टीम की कमान विश्व कप के लिए सौंप दी गई है। ये प्रियम के लिए कतई भी आसान राह नहीं थी और वे उन दिनों को याद करते हैं जब उनके पिता दिन के दौरान घर-घर जाकर दूध बेचते थे और रात में उन्हें 10 रुपये का नोट थमाते थे ताकि वह क्रिकेट नेट के लिए मेरठ की यात्रा कर सकें। फिर, ऐसे दिन थे जब पैसे की तंगी थी और गर्ग अपने सपने को आगे बढ़ाने के लिए बसों की छतों पर भी यात्रा करते थे।

पापा ने दूध बेचा, स्कूल वैन चलाई..

पापा ने दूध बेचा, स्कूल वैन चलाई..

उन यात्राओं के दौरान इस बल्लेबाज ने कभी यह नहीं सोचा होगा कि क्या वह कभी इतना पैसा कमा पाएगा कि वह अपने पिता की मदद कर सकें। अगले महीने दक्षिण अफ्रीका में अंडर -19 विश्व कप के लिए गर्ग ने भारतीय टीम का कप्तान बनकर पहला कदम उठा लिया है।

इंडिया या ऑस्ट्रेलिया ? रिकी पोंटिंग ने बताया किसके पास है बेहतर बॉलिंग अटैक

अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए प्रियम कहते हैं, "मेरे पिता ने सबसे अधिक परिश्रम किया, उन्होंने सभी वे काम किए जो आप कल्पना कर सकते हैं ... दूध बेचना, स्कूल वैन चलाना, सामान लोड करना, उन्होंने सुनिश्चित किया कि मुझे एक अच्छा जीवन मिले। वह यह सब इसलिए करते रहे ताकि एक दिन मैं एक क्रिकेटर बन जाऊं। वह मुझे मेरठ ले गए और सुनिश्चित किया कि मैं एक अच्छी अकादमी में जाऊं। " गर्ग के हवाले से द इंडियन एक्सप्रेस ने यह बात कही।

इतना ही नहीं उनके पिता 20 किमी दूर मेरठ में संजय रस्तोगी की एकेडमी में कोचिंग दिलाने के लिए प्रियम को खुद लेकर जाते थे और जब वह नहीं जा पाते थे तो ऐसा करने के लिए परीक्षितगढ़ में उनके घर से उनके साथ उनकी पांच बहनों में से कोई एक साथ होती थी। ऐसा तब तक चलता रहा जब तक की सबको यकीन हो गया कि प्रियम अब अकेले भी यात्रा कर सकते हैं।

अकादमी में अपने कौशल को निखारने के बाद गर्ग को उत्तर प्रदेश की अंडर -14 टीम में चुना गया और वे अंडर -16 और अंडर -19 टीमों के लिए खेलने गए।

रात में निकलते और ग्राउंड तक पहुंचने में हो जाती थी सुबह-

रात में निकलते और ग्राउंड तक पहुंचने में हो जाती थी सुबह-

पिछले साल, 19 वर्षीय बल्लेबाज ने अपने पहले रणजी ट्रॉफी सीजन में यूपी के लिए 867 रन बनाए, जिसमें एक दोहरा शतक, दो शतक और पांच अर्द्धशतक शामिल थे।

ज्यादातर भारतीयों की तरह, गर्ग कहते हैं, सचिन तेंदुलकर की वजह से उनको क्रिकेट के प्रति झुकाव हुआ। हालांकि अपने हीरो को देखने के लिए घर पर टीवी नहीं था। "मैं पास के एक शोरूम में जाता और भीड़ के बीच में मैच देखता।" यह सचिन सर की वजह से था कि मैं क्रिकेट खेलना चाहता था।" वे कहते हैं।

यह एक आसान यात्रा नहीं थी, खासकर जब तब उसने अपनी मां को खो दिया था, जब वह सिर्फ 11 साल की थी। "मैं यह समझने के लिए बहुत छोटा था कि क्या हो रहा है लेकिन जैसे-जैसे मैं बड़ा हुआ, यह एक बड़ी कमी थी, जो कभी भरा नहीं गई। मेरे पिता और बहनों ने मेरी देखभाल की, मेरे पिता ने मेरे लिए बहुत त्याग किया, " उन्होंने बताया।

मिताली राज के बर्थडे पर बड़ी घोषणा, तापसी पन्नू निभाएंगी बॉयोपिक में उनका किरदार

आज उनके पिता नरेश यूपी के स्वास्थ्य विभाग में ड्राइवर के रूप में काम करते हैं। उनके पिता बताते हैं, "मुझे अपने दूध के कारोबार को रोकना पड़ा क्योंकि मुझे सुबह-सुबह प्रियम को ग्राउंड पर ले जाना पड़ता। इसलिए मैंने एक स्कूल वैन चलाने का फैसला किया और अखबार वितरण में लग गया।

शुरू में गेंदबाज बनना चाहते थे प्रियम लेकिन फिर यह हुआ-

शुरू में गेंदबाज बनना चाहते थे प्रियम लेकिन फिर यह हुआ-

"हर रात, मैं अपनी वैन में प्रियम को अपने साथ ले जाता। हमारे पास रात का भोजन होता और मैं अखबार उठाकर शहर के चारों ओर और बाहरी इलाकों में उन्हें गिरा देता। सुबह तक हम मैदान में होते थे। मैं अच्छी तरह से शिक्षित नहीं हूं, मुझे क्रिकेट के बारे में क्या पता है? लेकिन एक दिन, मैं राहुल द्रविड़ से मिला और उन्होंने मुझे चिंता न करने के लिए कहा और कहा कि मेरा बेटा सेलेक्ट हो जाएा। मैं उस दिन खुश था, "वह कहते हैं।

गर्ग के कोच रस्तोगी का कहना है कि उनके शिष्य का "तेज दिमाग" उन्हें अच्छी स्थिति में खड़ा करेगा। उन्होंने बताया, "वह प्रवीण और भुवी के नक्शेकदम पर चलना चाहता था। लेकिन कुछ महीनों के भीतर, मैंने उन्हें अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा क्योंकि वह बिल्कुल नेचुरल स्ट्रोक प्लेसर की तरह दिखता था। हमारे साथ जुड़ने के केवल एक साल बाद, उन्हें अंडर-14 टीम के लिए चुना गया।"

गर्ग को आशा है कि प्रियम एक दिन सीनियर भारतीय टीम की ओर से भी खेलेंगे। "मैं अपने पिता के सपने को पूरा कर रहा हूं।" वे कहते हैं।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Tuesday, December 3, 2019, 14:54 [IST]
Other articles published on Dec 3, 2019
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X