एनालिस्ट से मांगी थी पिछले 5 सालों में आउट होने की वजह, अब लगा रहे हैं लगातार शतक

IND vs ENG
Photo Credit: ICC/Twitter

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही 5 मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मैच लॉर्डस के ऐतिहासिक मैदान पर खेला जा रहा है, जिसमें इंग्लैंड की टीम ने कप्तान जो रूट के शतक के दम पर पहली पारी में 27 रनों की बढ़त हासिल कर ली है। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने इस सीरीज की तीसरी पारी में लगातार दूसरी बार शतक लगाया और सिर्फ शतक ही नहीं लगाया बल्कि 180 रनों की पारी खेलकर नाबाद वापस लौटे। इसके साथ ही जो रूट इंग्लैंड के लिये एक सीजन में 5 टेस्ट शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज बन गये हैं और टेस्ट क्रिकेट के ढेरों रिकॉर्ड अपने नाम कर लिये हैं।

और पढ़ें: WTC के दूसरे सत्र के लिये जारी हुआ भारत के सभी मैचों का शेड्यूल, जानें कब-कब होंगे मैच

जो रूट की इस पारी की तारीफ न सिर्फ फैन कर रहे हैंं बल्कि दुनिया भर के दिग्गज खिलाड़ी उनकी फॉर्म को देखकर तारीफों के पुल बांध रहे हैं। ऐसे में लोगों के बीच एक सवाल उठ रहा है कि इस साल जो रूट ने जिस तरह की उम्दा फॉर्म दिखाई है उसका क्या कारण है। अब इस सवाल का जवाब इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक एथर्टन ने दिया है।

और पढ़ें: IPL 2021 में खेलने के लिये श्रेयस अय्यर-टी नटराजन को मिली हरी झंडी, BCCI ने किया बड़ा फैसला

लॉकडाउन के दौरान जो रूट ने की काफी मेहनत

लॉकडाउन के दौरान जो रूट ने की काफी मेहनत

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक एथर्टन ने स्कॉय स्पोर्टस के साथ बात करते हुए बताया कि जो रूट की मौजूदा फॉर्म पिछले साल कोविड 19 के तहत लगे लॉकडाउन में की गई जबरदस्त मेहनत का नतीजा है। जो रूट ने नॉटिंघम टेस्ट की दूसरी पारी में 109 रनों की पारी खेली थी और लॉर्डस में लगातार दूसरा शतक लगाते हुए नाबाद 180 रन बनाकर सीरीज में 354 रन बना लिये हैं।

उन्होंने कहा,'मुझे लगता है कि उनकी यह फॉर्म पिछले साल लॉकडाउन में की गई मेहनत का नतीजा है। यह फॉर्म उस वक्त आई है जब वो महज 29 साल के हैं और पहले से ही एक जबरदस्त करियर के मालिक है। लॉकडाउन ने उन्हें रुककर सोचने का मौका दिया जिसमें उन्होंने कहा कि मेरे करियर का दूसरा हिस्सा आना बाकी है और मैं एक बहुत अच्छे खिलाड़ी से ऑल टाइम ग्रेट खिलाड़ियों की लिस्ट में पहुंच सकता हूं।'

एनालिस्ट की मदद से ढूंढी अपनी कमजोरी

एनालिस्ट की मदद से ढूंढी अपनी कमजोरी

उल्लेखनीय है कि लॉर्डस के मैदान पर लगाई गई शतकीय पारी की मदद से जो रूट ने टेस्ट क्रिकेट में 9 हजार रनों का आंकड़ा पार कर लिया है और इंग्लैंड के लिये सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे खिलाड़ी बन गये हैं। जो रूट ने इस साल की शुरुआत श्रीलंका और भारत के खिलाफ दोहरे शतक लगाकर किया था।

एथर्टन ने कहा,'जो रूट ने लॉकडाउन के दौरान टीम के वीडियो एनालिस्ट से पिछले 5 सालों में उनके आउट होने के तरीके का विवरण मांगा और हर डिटेल पर काम किया। जो रूट ने कोशिश कर अपनी हर कमजोरी को दूर किया औऱ जहां पर वो खड़े थे वहां से मौजूदा फॉर्म में पहुंच गये हैं। वह अपनी तब की मेहनत का फल अब हासिल कर रहे हैं।'

अब आजादी के साथ खेल रहे हैं जो रूट

अब आजादी के साथ खेल रहे हैं जो रूट

एथर्टन ने बताया कि जो रूट ने टीम के कप्तान और बल्लेबाज के दौर पर अपनी जिम्मेदारियों को बांटने का तरीका ढूंढ निकाला है और यही कारण है कि वो अब ज्यादा बेहतर फॉर्म में आजादी के साथ बल्लेबाजी करते नजर आते हैं।

उन्होंने कहा,'इस समय आप बल्लेबाज जो रूट को खेलते देख रहे हैं न कि कप्तान जो रूट को जो कि दबाव और अपेक्षाओं से दबे नजर आते थे। वह अब ज्यादा आजादी के साथ खेलते नजर आ रहे हैं।'

गौरतलब है कि तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड की टीम 391 रन के स्कोर पर ऑल आउट हुई और भारत के मुकाबले 27 रन की बढ़त हासिल कर ली है। वहीं पर चौथे दिन का पहला सेशन पूरी तरह से इंग्लैंड के नाम रहा जिसने भारतीय टीम के 3 मुख्य बल्लेबाज केएल राहुल, रोहित शर्मा और विराट कोहली को आउट कर वापस पेवलियन भेज दिया और सिर्फ 29 रनों की बढ़त हासिल की है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Sunday, August 15, 2021, 17:33 [IST]
Other articles published on Aug 15, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X