'वो हमेशा से मैचविनर रहे हैं', टेस्ट में हरभजन को पछाड़ने पर द्रविड़ ने जमकर की अश्विन की तारीफ

IND vs NZ
Photo Credit: Screen grab/Twitter

नई दिल्ली। भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेली जा रही टेस्ट सीरीज के पहले मैच का नतीजा भले ही भारतीय फैन्स की उम्मीदों के अनुसार नहीं आया लेकिन इसके बावजूद 5 दिन तक खेले गये इस मैच ने दिल जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ी। दोनों टीमों के लिये कानपुर के मैदान पर खेला गया यह मैच एक रोलर कोस्टर राइड की तरह रहा, जिसमें कभी भारतीय टीम का पलड़ा भारी नजर आता तो कभी कीवी टीम वापसी करते हुए मैच में पकड़ बनाती। मैच के आखिरी दिन भी जब खेल एकतरफा ड्रॉ की तरफ जा रहा था तो रविचंद्रन अश्विन ने 2 विकेट झटक कर अपनी टीम की वापसी कराई और भारतीय टीम को जीत की दहलीज पर पहुंचने में मदद की, हालांकि आखिरी 9 ओवर्स में भारतीय गेंदबाज कीवी टीम का आखिरी विकेट निकाल पाने में नाकाम रहा जिसके चलते उसे 4 साल में पहली बार घर पर खेले गये किसी मैच में ड्रॉ का सामना करना पड़ा।

और पढ़ें: IND vs NZ: क्या ऋद्धिमान साहा की तरह सिर्फ बल्लेबाजी कर मैदान छोड़ सकता है खिलाड़ी, जानें क्या कहते हैं नियम

इस मैच में कई भारतीय खिलाड़ियों ने अपने शानदार प्रदर्शन से फैन्स का दिल जीतते हुए कई रिकॉर्ड अपने नाम किये जिसमें श्रेयस अय्यर, अक्षर पटेल और रविचंद्रन अश्विन का नाम शुमार रहा। जहां अय्यर डेब्यू मैच में शतक और अर्धशतक लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बनें तो वहीं पर अक्षर पटेल ने 4 मैचों में सबसे ज्यादा 5 विकेट हॉल लेने वाले भारतीय गेंदबाज का रिकॉर्ड अपने नाम किया। वहीं मैच के आखिरी दिन रविचंद्रन अश्विन ने भी टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने वाले भारतीय गेंदबाज की लिस्ट में हरभजन सिंह को पछाड़ा और तीसरे पायदान पर काबिज हो गये हैं।

और पढ़ें: IND vs NZ: कहां हुई भारतीय टीम से गलती, 4 साल में पहली बार खेलना पड़ा ड्रॉ

हरभजन को पछाड़ना बहुत बड़ी उपलब्धि

हरभजन को पछाड़ना बहुत बड़ी उपलब्धि

कानपुर टेस्ट के बाद रविचंद्रन अश्विन (419 विकेट) ने हरभजन सिंह (417 विकेट) को पछाड़कर तीसरा स्थान हासिल कर लिया है और अब पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी कपिल देव (434 विकेट) को पीछे छोड़ने की कगार पर हैं। भारत के लिये टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड अनिल कुंबले (619 विकेट) के नाम है, हालांकि अश्विन ने हरभजन सिंह को पीछे छोड़ने के लिये सिर्फ 80 मैचों का सहारा लिया है और हरभजन की तुलना में 40 पारियां पहले यह कीर्तिमान हासिल किया है। कानपुर टेस्ट में रविचंद्रन अश्विन ने टॉम लैथम का विकेट लेते ही यह रिकॉर्ड अपने नाम किया।

अश्विन ने इस मैच में कुल 6 विकेट अपने नाम किये और दोनों पारियों में अपनी टीम की वापसी करने में अहम भूमिका निभाई। मैच खत्म होने के बाद भारतीय टीम के नये कोच राहुल द्रविड़ ने भी अश्विन की इस उपलब्धि पर बात की और कहा कि देश के लिये सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले तीसरे गेंदबाज का रिकॉर्ड अपने नाम करना बहुत बड़ी उपलब्धि है।

हमेशा से मैच विनर खिलाड़ी रहे हैं अश्विन

हमेशा से मैच विनर खिलाड़ी रहे हैं अश्विन

द्रविड़ ने अश्विन की तारीफ करते हुए कहा कि वो टेस्ट क्रिकेट में हमेशा से एक मैच विनर खिलाड़ी रहे हैं जो कि खेल के सबसे लंबे प्रारूप में हमेशा कुछ नया सीखते हुए आगे बढ़ते हैं और काफी विकसित ऑफ स्पिनर बन गये हैं।

पोस्ट मैच प्रेस कॉन्फ्रेंस में बात करते हुए राहुल द्रविड़ ने कहा,'मुझे लगता है कि यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। आप सभी जानते हैं हरभजन सिंह देश के लिये कितने बड़े गेंदबाज रहे हैं जिन्होंने बेहद शानदार गेंदबाजी करते हुए भारत के लिये काफी क्रिकेट खेला है। ऐसे में अश्विन ने महज 80 टेस्ट मैच खेलकर इतने बड़े गेंदबाज को पीछे छोड़ दिया, जो दर्शाता है कि वो खेल को लेकर कितने समर्पित हैं। अश्विन उन खिलाड़ियों में से हैं जो कि भारत के लिये हमेशा से मैच विनर रहे हैं। यहां तक कि आज भी जब गेंदबाजी करना मुश्किल हो रहा था तो उन्होंने अपने 11 ओवर के स्पेल में विकेट लेकर टीम की वापसी कराई और आखिरी ओवर तक मैच को जिंदा रखा। हमेशा विकेट लेने की भूख उनकी स्किल और काबिलियत का नतीजा है।'

हर कोई वो हासिल नहीं कर सकता जो अश्विन ने किया है

हर कोई वो हासिल नहीं कर सकता जो अश्विन ने किया है

गौरतलब है कि रविचंद्रन अश्विन ने रविवार को विल यंग का विकेट लेकर हरभजन सिंह के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली थी, जिसके बाद सोमवार को उन्होंने टॉम लैथम का विकेट लेकर लिस्ट में तीसरा स्थान हासिल कर लिया। द्रविड़ ने तमिलनाडु के इस दिग्गज स्पिनर की तारीफ करते हुए कहा कि पिछले कुछ सालों में इस गेंदबाज में काफी बदलाव देखने को मिला है।

उन्होंने कहा,'पिछले कुछ सालों में अश्विन की गेंदबाजी काफी विकसित हो गई है और वो लगातार इसमें इजाफा करते रहे हैं। वह उन खिलाड़ियों में से एक हैं जो लगातार अपने खेल के बारे में सोचता रहता है और समय के हिसाब से गलतियों में सुधार की कोशिश करता रहा है, यही वजह है कि वो आज यहां पर हैं। अश्विन ने जो हासिल किया है वो हर कोई हासिल नहीं कर सकता है। ड्रेसिंग रूम में ऐसे किसी खिलाड़ी का साथ होना और उसके साथ काम करना सौभाग्य की बात है। मैं उनके लिये काफी खुश हूं।'

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Monday, November 29, 2021, 20:18 [IST]
Other articles published on Nov 29, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X