IPL 2020: धोनी के आलोचकों पर भड़के सैयद किरमानी, कहा- सोच पर आता है तरस

IPL 2020
Photo Credit: BCCI/IPL

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स का प्रदर्शन अब तक कुछ खास नहीं रहा है और उसके खराब प्रदर्शन के चलते टीम के कप्तान एमएस धोनी को काफी आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ रहा है। शनिवार को हुए मैच में सीएसके के बल्लेबाजों ने एक बार फिर फ्लॉप शो दिखाया जिसके बाद सोशल मीडिया पर ट्रोलर्स एक बार फिर से धोनी को ट्रोल करने में जुट गये। वहीं इस मामले को लेकर पूर्व भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज सैयद किरमानी ने अपनी राय रखी है और इन चीजों को बिना मतलब बताते हुए कहा कि उन्हें ऐसा करने वाले लोगों की सोच पर तरस आता है।

IPL 2020: अंबति रायडु पर बरसे केविन पीटरसन, कहा- ऐसा लगा जैसे पिच पर सो रहे हों

न्यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा को दिये एक इंटरव्यू में किरमानी ने कहा,' हर खिलाड़ी के करियर में यह दौर आना जरूरी है। जैसे एक खिलाड़ी का अपने करियर के शिखऱ पर पहुंचने का एक वक्त होता है ठीक वैसे ही उसके नीचे उतरने का भी एक वक्त होता है। चीजें वक्त के साथ बदलती हैं। जो लोग धोनी को ट्रोल करने में जुटे हुए हैं मुझे उनकी सोच पर तरस आता है।'

DC vs MI: शिखर धवन ने जड़ा 38वां अर्धशतक, पूरा किया खास शतक, बनें कई रिकॉर्ड

क्या अब धोनी नहीं रहे फिनिशर

क्या अब धोनी नहीं रहे फिनिशर

इंटरव्यू के दौरान जब सैयद किर्मान से सवाल किया गया कि क्या अब धोनी अपनी मैच विनर और फिनिशर की भूमिका खो चुके हैं तो उन्होंने अपनी राय देते हुए कहा कि जो भी लोग धोनी से लगातार एक जैसा प्रदर्शन की उम्मीद लगा रहे हैं उनकी सोच गलत है। अब आपको धोेनी से इस तरह की उम्मीद लगाना बंद करना चाहिये जो आप उनसे 10-15 साल पहले लगाया करते थे।

उन्होंने कहा, 'आप प्रकृति के नियम को नहीं बदल सकते। यह सभी पर लागू होता है, फिर वो चाहे धोनी ही क्यों न हों। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि धोनी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर रहे हैं और लगभग डेढ़ साल के बाद मैदान पर वापसी कर रहे हैं जिसके चलते वह वो प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं जिसके लिये वह जाने जाते रहे हैं।'

आप 15 साल पहले वाले धोनी को अभी नहीं देख सकते

आप 15 साल पहले वाले धोनी को अभी नहीं देख सकते

पूर्व विकेटकीपर का मानना है कि जैसे-जैसे आदमी की उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे उसके प्रदर्शन पर भी प्रभाव पड़ता है। यह नियम हर वर्ग और क्षेत्र को लोगों पर लागू होता है। इस उम्र में आप उस चुस्ती की अपेक्षा नहीं कर सकते जो 10-15 साल पहले होती थी। इसके अलावा धोनी के पास सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं बतौर कप्तान भी कई जिम्मेदारियां होती है, जिसका असर देखने को मिलता है।

उन्होंने कहा, 'धोनी सिर्फ एक बल्लेबाज ही नहीं हैं, बल्कि टीम में उनके कंधे पर कई और जिम्मेदारियां भी हैं। इतना ही नहीं अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद वह अब अपने भविष्य के बारे में भी सोच रहे होंगे। आदमी के ऊपर जैसे-जैसे बाकी जिम्मेदारियां आती जाती हैं उसके प्रदर्शन पर उसका असर साफ देखने को मिलता है।'

सभी टीमों में है कुछ खामियां

सभी टीमों में है कुछ खामियां

किरमानी ने सीएसके के खराब प्रदर्शन के पीछे संयुक्त अरब अमीरात की गर्मी और परिस्थितियों को भी एक कारण बताते हुए कहा कि मैनेजमेंट ने टीम का संयोजन भारतीय पिचों के हिसाब से किया था, लेकिन कोरोना काल में यह एक मुश्किल जगह पर खेला जा रहा है, जहां पर खिलाड़ी इतनी गर्मी में खेलने के आदी नहीं हैं।

उन्होंने कहा, 'क्रिकेटर अनिश्चितताओं का खेल है। यही कारण है कि 12 सालों में लगातार अच्छी टीम होने के बावजूद रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली एक भी खिताब जीत पाने में नाकाम रहे हैं। वहीं यूएई की परिस्थितियों में इतना बड़ा टूर्नामेंट खेलने के लिये सीएसके के प्लेयर तैयार नहीं थे। ऐसे में यह कहना सही नहीं होगा कि किसी टीम में कोई कमी या खामी है।'

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Sunday, October 11, 2020, 22:40 [IST]
Other articles published on Oct 11, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X