IPL इतिहास के 5 मुकाबले जब सबसे कम रन बनाकर भी टीमों ने पलट दी बाजी

नई दिल्लीः क्रिकेट का सबसे छोटा फॉर्मेट T20 है जिसमें आपको कई हाई स्कोरिंग मुकाबले देखने को मिलते हैं और चौके छक्कों की आतिशबाजी होती हैं। इन सब के बीच कहीं ना कहीं गेंदबाजों का प्रदर्शन दब सा जाता है लेकिन गेंदबाज भी प्रदर्शन करते हैं और जब गेंदें कमाल करती हैं तब टी-20 क्रिकेट में भी बल्लेबाजों को नानी याद आ जाती है। हालांकि यह फटाफट क्रिकेट नई किस्म के बल्लेबाजों का है जो नई उम्र के हैं, जिनके पास इनोवेशन है और बल्ले को 360 डिग्री पर घुमाने की काबिलियत है।

अब तो विकेटकीपर के सर के ऊपर से उड़ते हुए छक्के भी देखे जाने लगे हैं। ऐसे में जब कोई टीम बहुत छोटा लक्ष्य पहले बैटिंग करते हुए सेट करती है तो T20 क्रिकेट में 90% यही मान लिया जाता है कि उस लक्ष्य को चेज कर लिया जाएगा लेकिन आईपीएल में ऐसा भी हुआ है जब टीमों ने बहुत ही छोटे टोटल बनाकर उनको डिफेंड किया। इस आर्टिकल में हम ऐसी ही टीमों के बारे में बात करेंगे जिन्होंने पांच मौकों पर सबसे कम रन बनाए फिर भी मैच को बचाने में कामयाब रही।

5. मुंबई इंडियंस बनाम पुणे वारियर्स के बीच 2012 का मैच-

5. मुंबई इंडियंस बनाम पुणे वारियर्स के बीच 2012 का मैच-

यह आईपीएल के इतिहास में सबसे नजदीकी मुकाबलों में से एक था। यह काफी लो स्कोरिंग मैच था। मुंबई इंडियंस की टीम ने नौ विकेट के नुकसान पर केवल 120 रन बनाए थे जबकि वह पहली पारी में बैटिंग कर रहे थे।

उनके लिए सचिन तेंदुलकर 35 गेंदों में 34 रन बनाकर टॉप स्कोरर थे और विपक्षी की ओर से भुवनेश्वर कुमार व आशीष नेहरा ने दो-दो विकेट लिए थे। लक्ष्य का पीछा करते हुए पुणे की टीम ने लगातार विकेट गंवा दिए और वे लड़खड़ाते हुए दिखाई दिए। उन्होंने 19 ओवर की दूसरी गेंद पर 105 रनों के स्कोर पर अपना छठा विकेट भी गंवा दिया और तब उनको अंतिम 10 गेंदों पर जीत के लिए 15 रनों की जरूरत थी। ऐसे में मिथुन मिन्हास ने 34 गेंदों पर 42 रनों की पारी खेलकर अपनी ओर से भरसक कोशिश की लेकिन अंत में वह भी नाकामयाब हुए। मुंबई इंडियंस ने बहुत ही अहम पॉइंट कमाते हुए विपक्षी टीम को मात्र 1 रनों से मात दी थी।

IND vs ENG 2nd ODI Preview: भारत के लिए सीरीज जीत, इंग्लैंड के लिए करो-मरो का मैच

4. पुणे वारियर्स 2013 में एक और मुकाबला-

4. पुणे वारियर्स 2013 में एक और मुकाबला-

यह वह मैच था जब पुणे वारियर्स की टीम ने अपनी बल्लेबाजी में पूरी तरह से निराश किया क्योंकि वह केवल 120 रनों के लक्ष्य का ही पीछा कर रहे थे। इससे पहले बैटिंग करते हुए सनराइजर्स हैदराबाद की टीम ने 8 विकेट खोकर 119 रन बनाए थे लेकिन पुणे वारियर्स की टीम 108 रनों पर ही आउट होकर 11 दिनों से यह मैच हार चुकी थी। अमित मिश्रा ने अपना जादू जगाते हुए 19 रन देकर चार विकेट लिए।

3. किंग्स इलेवन पंजाब और मुंबई इंडियंस का 2009 का मैच-

3. किंग्स इलेवन पंजाब और मुंबई इंडियंस का 2009 का मैच-

अब बात करते हैं किंग्स इलेवन पंजाब और मुंबई इंडियंस के मैच की जिसमें पंजाब की टीम ने रोमांचक तरीके से मुंबई पर जीत हासिल की। पंजाब ने पहले बैटिंग करते हुए 20 ओवर में 8 विकेट के नुकसान पर 119 रन बनाए थे जिसमें श्रीलंका के महान कुमार संगकारा ने 44 गेंदों पर 45 रनों की पारी खेली थी। इसके जवाब में मुंबई इंडियंस की टीम ने केवल 7 विकेट खोकर 116 रन बनाए और 3 रनों से मुकाबला हार गई। जेपी डुमिनी ने 59 रनों की पारी खेली जो की तरह 60 गेंदों पर आई थी लेकिन वह बेकार रही।

IPL 2021: RCB के लिए इस बार ओपन करेंगे विराट कोहली, टीम ने बताया उनके जोड़ीदार का नाम

2. मुंबई इंडियंस का एक और कॉलेप्स, 2018-

2. मुंबई इंडियंस का एक और कॉलेप्स, 2018-

बात करते हैं मुंबई इंडियंस के एक और मुकाबले की जो 2018 में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ हुआ था। इस मैच को आईपीएल के इतिहास में सबसे हैरान करने वाली नतीजों के तौर पर जाना जाता है क्योंकि मुंबई इंडियंस 119 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए मात्र 87 रनों पर ही आउट हो गई थी। सनराइजर्स हैदराबाद की टीम में यूसुफ पठान ने पहली पारी खेलते हुए सर्वाधिक 29 रन बनाए। उनकी बॉलिंग में सिद्धार्थ कौल, राशिद खान और वासिल थंपी जैसे गेंदबाज थे जिन्होंने हुनर दिखाते हुए अपनी टीम को मैच जिता दिया। एक समय मुंबई इंडियंस 3 विकेट खोकर 61 रन बना चुकी थी लेकिन जल्द ही वह कॉलेप्स हो गए और मैच हार गए।

1. CSK बनाम KXIP, 2009 का मुकाबला

1. CSK बनाम KXIP, 2009 का मुकाबला

यहां हम बात करेंगे चेन्नई सुपर किंग्स की जिन्होंने 2009 में किंग्स इलेवन पंजाब के साथ मुकाबला खेला था। आईपीएल के इतिहास में चेन्नई सुपर किंग्स के नाम सबसे कम लक्ष्य को डिफेंड करने का रिकॉर्ड है। उन्होंने पहले बैटिंग करते हुए 20 ओवर में 9 विकेट के नुकसान पर 116 रन बनाए जिसमें पार्थिव पटेल ने 23 गेंदों पर 32 रनों की पारी खेली। इसके जवाब में पंजाब की टीम शुरू से ही काफी दबाव में दिखाई दे रही थी। इस टीम ने 20 ओवर में आठ विकेट के नुकसान पर महज 92 रन बनाए और 24 रनों के अंतर से मुकाबला गंवा दिया। चेन्नई सुपर किंग्स के चार गेंदबाजों ने दो विकेट आपस में बांटे और मैच जीतने में भूमिका निभाई।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, March 25, 2021, 16:57 [IST]
Other articles published on Mar 25, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X