जितनी तेज बॉलिंग की, धोनी ने उतना ही मारा, मैंने जानबूझकर फेंकी बीमर- अख्तर ने जताया अफसोस

Shoaib Akhtar reveals why he bowled a beamer to MS Dhoni in faisalabad Test? | Oneindia Sports

नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने स्वीकार किया है कि उन्हें फैसलाबाद में भारत के खिलाफ 2006 की श्रृंखला के दूसरे टेस्ट के दौरान एमएस धोनी को एक बीमर फेंकने का पछतावा है। पहली पारी में, धोनी ने अपना पहला टेस्ट शतक लगाया - 148 की अविश्वसनीय पारी जिसमें 19 चौके और चार छक्के शामिल थे।

सेट होने के बाद धोनी ने अख्तर को निशाने पर लिया था और कई दर्शनीय शॉट रावलपिंडी एक्सप्रेस पर लगाए थे।

14 साल बाद, अख्तर ने स्वीकार किया- हो गई गलती

14 साल बाद, अख्तर ने स्वीकार किया- हो गई गलती

14 साल बाद, अख्तर ने स्वीकार किया कि उन्होंने धोनी को जानबूझकर बीमर की गेंद फेंकी, जो हताशा से उपजा था "मुझे लगता है कि मैंने फैसलाबाद में 8-9 ओवर फेंके थे। यह एक तेज स्पेल था और धोनी ने शतक बनाया। मैंने जानबूझकर धोनी को एक बीमर दिया और फिर उनसे माफी मांगी। "अख्तर ने आकाश चोपड़ा को अपने यूट्यूब चैनल पर बताया।

धोनी को फेंकी जानबूझकर बीमर-

धोनी को फेंकी जानबूझकर बीमर-

"यह मेरे जीवन में पहली बार था जब मैंने जानबूझकर एक बीमर गेंदबाजी की थी। मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए था मुझे इसका बहुत पछतावा हुआ। वह इतना अच्छा खेल रहा था और विकेट बहुत धीमे थे। हालांकि मैं जिस तेजी से गेंदबाजी कर रहा था, वह लगातार उसको हिट रहा था। मुझे लगता है कि मैं निराश हो गया। "

5 बेहतरीन क्रिकेटर जिन्हें पूरे करियर में हासिल नहीं हो पाएगा IPL में खेलना का मजा

अख्तर ने आगे खुलासा किया कि टेस्ट सीरीज के दौरान वह किस तरह से चोटिल हो रहे थे, जिससे उन्हें तीन मैचों में सिर्फ चार विकेट लेने का मौका मिला। अख्तर ने बताया कि कैसे उनके घुटनों ने वर्ष 1997 के आसपास उनका साथ छोड़ दिया था और उन्होंने इंजेक्शन की मदद से अगले 10 साल तक काम किया।

'2-3 साल बाद हिरन की तरह छलांग लगाना बंद हो गया'

'2-3 साल बाद हिरन की तरह छलांग लगाना बंद हो गया'

"हिरण की तरह छलांग लगाना तो 2-3 साल बाद समाप्त हो गया। मेरे घुटनों ने मुझे अपने घुटनों पर ला दिया। मेरे घुटने 1997 में बेकार हो गए थे। फिर भी मैं नियमित रूप से इंजेक्शन लेने के बाद भी लड़ता रहा और खेलता रहा। "मुझे याद है कि जब भारत पाकिस्तान आया था, तो मेरा बायां पैर टूट गया था, जो मेरा लैंडिंग पैर था। एमएस धोनी ने फैसलाबाद में शतक बनाया था। उन्होंने किस तरह के विकेट तैयार किए, आप जानते हैं। "

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, August 8, 2020, 13:11 [IST]
Other articles published on Aug 8, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X