शिवनारायण चंद्रपॉल के बेटे ने की पूरे दिन बैटिंग, 274 गेंदों पर बनाए इतने रन

नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यह एक आम तौर पर देखा जाता है कि महान क्रिकेटरों की संतानें अपने पिता या माता के समान ही खेल को अपनाते हैं। कभी-कभी वे सफल होते हैं और कभी-कभी उनका कैरियर बिना किसी उपलब्धि के समाप्त हो जाता है। क्रिकेट में नया नाम हैं शिवनारायण चंद्रपॉल के बेटे का जिनका नाम है टैगनारिन चंद्रपॉल।

टैगनारिन चंद्रपॉल ने अपने पिता के नक्शेकदम पर चलना शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि शिवनारायण चंद्रपॉल वेस्टइंडीज के एक महान टेस्ट बल्लेबाज रहे हैं जिनका नाम 90 और उसके बाद के दशक में केवल ब्रायन लारा के बाद आता है।

शिवनारायण चंद्रपॉल के बेटे टेगनारिन

शिवनारायण चंद्रपॉल के बेटे टेगनारिन

वेस्टइंडीज के पूर्व बाएं हाथ के बल्लेबाज शिवनारायण चंद्रपॉल अपने बल्लेबाजी कौशल से ज्यादा अपने बल्लेबाजी स्टांस के लिए जाने जाते थे। वे जिस तरह से स्टंप के सामने खड़े होते थे उसको लेकर भी उनकी बल्लेबाजी के दिनों में काफी चर्चा होती थी। इसके बावजूद इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि चंद्रपॉल ने अपनी बेजोड़ तकनीक से उस समय के तमाम महान गेंदबाजों का सामना करते हुए रन बनाए। चंद्रपॉल ने 268 वन-डे इंटरनेशनल खेले और साथ ही 164 टेस्ट मैच खेले। उनका कैरियर 1994 में शुरू हुआ और 2011 में समाप्त हुआ, उन्होंने 20,000 से अधिक रन बनाए, जो कि किसी भी मानकों से बहुत अधिक है।

पूरे दिन की बैटिंग, खेली 274 गेंदें-

पूरे दिन की बैटिंग, खेली 274 गेंदें-

उनके बेटे, टेगनारिन ने भी, उनके जैसा ही रास्ता अपनाया है। वेस्टइंडीज चैंपियनशिप में हाल ही में चार दिवसीय मैच में, जूनियर चंद्रपॉल ने पूरे दिन बल्लेबाजी की। टैगेनारिन के इस कारनामे के बाद सभी ने उनकी तुलना उनके पिता के साथ की है। शिवनारायण को भी पिच पर रहते हुए अपने धैर्य और दृढ़ संकल्प के लिए जाना जाता था। क्रीज पर अपनी टिकाऊ पारी के दौरान टेगनारिन ने 274 गेंदों का सामना किया और 66 रन बनाए, जिससे उनकी टीम ने दिन के खेल के अंत तक गुयाना को कुल 209/8 तक पहुंचा दिया।

'जिंदगी से बड़ा नहीं क्रिकेट'- मुश्फिकर रहमान ने बताया पाकिस्तान ना जाने का कारण

रिकॉर्ड बना चुकी है पिता-पुत्र की ये जोड़ी

रिकॉर्ड बना चुकी है पिता-पुत्र की ये जोड़ी

इन पिता-बेटे की एक कहानी वाकई दिलचस्प है। 2013 में एक मैच में, शिवनारायण और टैगेनारिन दोनों ने प्रथम श्रेणी मैच में एक साथ बल्लेबाजी की, जिससे वे ऐसा करने वाली कुछ जोड़ियों में से एक बन गए। चार साल बाद 2017 में, दोनों ने अपनी बल्लेबाजी का प्रदर्शन करते हुए, एक ही मैच में अर्द्धशतक बनाया था और ऐसा करने वाली पहली पिता-पुत्र की जोड़ी बन गई थी।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Saturday, January 18, 2020, 14:46 [IST]
Other articles published on Jan 18, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X