'हारने वाला वास्तव में भारतीय क्रिकेट है', BCCI-कोहली विवाद पर आकाश चोपड़ा ने दी राय

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी से जुड़े हालिया घटनाक्रम ने फैंस और पूर्व क्रिकेटरों दोनों को झकझोर कर रख दिया है। विराट कोहली ने साउथ अफ्रीका दौरे के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कई बातें कहीं। उन्होंने यह भी खुलासा किया कि बीसीसीआई खुश था, जब उन्होंने टी20आई कप्तानी छोड़ने की बाद की थी। पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने यूट्यूब पर अपने हालिया वीडियो में इस मुद्दे पर अपनी राय दी। उन्होंने कहा कि आखिरकार भारतीय क्रिकेट इस तरह के विवादों से जूझ रहा है। इंटरनेट पर चल रही कई अफवाहों ने भारतीय क्रिकेट की छवि खराब की है। चोपड़ा ने अफवाह फैलाने वाले लोगों के खिलाफ भी बात की।

यह भी पढ़ें- कोहली के लिए यह बड़ा दाैरा है, बल्ले से बनाने होंगे रन : कनेरिया

हारने वाला वास्तव में भारतीय क्रिकेट है

हारने वाला वास्तव में भारतीय क्रिकेट है

चोपड़ा ने कहा, "सवाल यह नहीं है कि कौन सच कह रहा है और कौन झूठ, कौन सही है और कौन गलत बोल रहा है। सवाल यह है कि ऐसा क्यों हो रहा है क्योंकि यह आपके और मेरे बारे में नहीं है या उसके या दूसरे शख्स के बारे में नहीं है। तथ्य यह निकलता है कि इन चीजों से हारने वाला वास्तव में भारतीय क्रिकेट है। मैं थोड़ा हैरान था। मैं एक लाइन पढ़ रहा था कि सत्य कल्पना से भी अजनबी हो सकता है, ठीक ऐसा ही हुआ है। विराट कोहली ने कहा कि उन्होंने कभी छुट्टी नहीं मांगी। तो वहीं खबर आई थी कि रोहित शर्मा के कप्तान बनने से पहले ही उन्होंने छुट्टी मांगी थी। मेरा मतलब है कि संचार टूट रहा है। यह कौन कर रहा है और कोई ऐसा क्यों कर रहा है?"

कप्तानी एक अधिकार नहीं बल्कि एक विशेषाधिकार है

कप्तानी एक अधिकार नहीं बल्कि एक विशेषाधिकार है

इससे पहले बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने मीडिया को बताया कि कोहली ने बीसीसीआई द्वारा रोहित शर्मा को कप्तानी की जिम्मेदारी सौंपने का फैसला करने से बहुत पहले ब्रेक मांगा था। हालांकि, प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान, कोहली ने उल्लेख किया कि उन्होंने कभी भी ब्रेक नहीं मांगा और साउथ अफ्रीका में रोहित की कप्तानी में वनडे मैच खेलेंगे। कोहली ने कहा कि T20I टीम की कप्तानी से हटने का फैसला करने के बाद, उन्होंने बीसीसीआई के साथ वनडे और टेस्ट फाॅर्मेट के लिए कप्तान बने रहने के बारे में बात की थी। कोहली के साथ रहने का फैसला पूरी तरह से चयनकर्ताओं के हाथ में था। इस पर चोपड़ा ने कहा, "दूसरी बात वनडे कप्तानी है, जिसने वास्तव में मुंह में खट्टा स्वाद छोड़ दिया। जब कोहली ने अपना बयान जारी किया था, तो उन्होंने कहा था कि वह T20I कप्तानी छोड़ रहे हैं, लेकिन टेस्ट और वनडे कप्तान बने रहना चाहेंगे। कप्तानी एक अधिकार नहीं बल्कि एक विशेषाधिकार है। ऐसे में आप किसी विशेषाधिकार को हल्के में नहीं ले सकते कि यह आपका अधिकार है।"

बात करना और सिर्फ सूचित करना जरूरी नहीं

बात करना और सिर्फ सूचित करना जरूरी नहीं

चोपड़ा का कहना है कि रोहित को वनडे कप्तानी देना भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा फैसला हो सकता है। हालांकि, चयनकर्ताओं और बोर्ड को कोहली के साथ इस पर चर्चा करनी चाहिए थी, क्योंकि कोहली ने यह भी बताया कि उनके साथ इस संबंध में कोई बात नहीं हुई। चोपड़ा ने कहा, "लेकिन जब आप अपने देश के सबसे सफल कप्तानों में से एक के बारे में बात कर रहे हैं और आप उन्हें कप्तान के रूप में बदलना चाहते हैं, जो बिल्कुल सही है, लेकिन बात करना और सिर्फ सूचित करना जरूरी नहीं है।"

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Thursday, December 16, 2021, 16:40 [IST]
Other articles published on Dec 16, 2021

Latest Videos

    + More
    POLLS
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Yes No
    Settings X