CWG डायरी: कभी एक अदद भाले के लिए तरसता था यह एथलीट

Posted By:
neeraj chopra gold run javelin throw in commonwealth games

पानीपत: कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय दल ने शानदार प्रदर्शन करते हुए ग्लासगो में अपने पिछले प्रदर्शन को पीछे छोड़ दिया। भारतीय दल ने गोल्ड कोस्ट में 26 गोल्ड जीते और कई कीर्तिमान अपने नाम किए। भारतीय दल के कुछ जाने-माने चेहरों ने अपना दम दिखाते हुए गोल्ड पर क़ब्ज़ा जमाया तो वहीं कई नए चेहरों ने इस कॉमनवेल्थ गेम्स में दुनिया को अपना परिचय दिया। शूटर अनीश भानवाला उनमें में से एक रहे जिन्होंने 15 साल की उम्र में गोल्ड जीतकर भारतीय कीर्तिमान अपने नाम किया।

कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया। भारत को जेवलिन थ्रो में नीरज चौपड़ा ने 86.47 मीटर थ्रो करके गोल्ड मेडल दिलाया। जेवलिन थ्रो में भारत के नीरज चौपड़ा लगातार लीड कर रहे थे। अपने चौथे प्रयास में उन्होंने 86.47 मीटर थ्रो किया। यह इस सीजन में उनका बेस्ट थ्रो रहा। नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक में भारत को गोल्ड दिलाया, इस स्पर्धा में अबतक के कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत का पहला गोल्ड था।

कॉमनवेल्थ गेम्स में भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीतने वाले एकमात्र भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा कभी एक अदद भाले के लिए तरसते थे लेकिन आज की तारीख में वह इस खेल के चैंपियन हैं। पांच साल पहले नीरज के पास अभ्यास के लिए भाला भी नहीं था पर उन्होंने हौसला नहीं खोया। पिता सतीश कुमार और चाचा भीम सिंह से सात हजार रुपये लेकर काम चलाऊ भाला खरीदा। नीरज हर दिन आठ घंटे तक अभ्यास किया करते थे। अंडर-16, अंडर-18 और अंडर-20 की मीट में नीरज ने राष्ट्रीय रिकॉर्ड अपने नाम किया। भारतीय कैंप में चयन के बाद नीरज को अच्छे भाले से अभ्यास करने का मौका मिला।

ये भी पढ़ें: काॅमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारत ने किए पहली बार ये 6 कारनामे

Story first published: Monday, April 16, 2018, 16:25 [IST]
Other articles published on Apr 16, 2018

MyKhel से प्राप्त करें ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट