BCCI के लिए क्यों मुश्किल होगा चीनी कंपनियों का बहिष्कार, जानकारों ने बताया कारण

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच हालिया राजनीतिक तनाव ने एक ऐसी स्थिति पैदा कर दी है, जहां भारतीय नागरिक पूरे देश में चीनी उत्पादों और सेवाओं का बहिष्कार कर रहे हैं। कई भारतीय व्यापारियों ने चीनी उत्पादों को बेचने से इनकार कर दिया है, जबकि लोग चीनी ऐप के लिए भारतीय विकल्पों की तलाश कर रहे हैं। यह सब तब शुरू हुआ जब चीनी सेना ने भारतीय क्षेत्र में हमला किया, जिसमें 20 सैनिक मारे गए।

विशेषज्ञों का मानना है- बोर्ड को होगी मुश्किल

विशेषज्ञों का मानना है- बोर्ड को होगी मुश्किल

इस सब के बीच, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने घोषणा की है कि वह अपने चीनी कंपनियों से स्पॉन्सर होने वाले सौदों की समीक्षा करेगा। इसी बीच इंडस्ट्री के कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि बोर्ड के लिए मौजूदा अनुबंधों को समाप्त करना या चीन से होने बड़ी रकम की अनदेखी काफी मुश्किल होगा।

मुंबई इंडियंस ने अंडरटेकर को दी श्रद्धांजली, पर पोस्ट की बेल्ट पकड़े हुए रोहित की फोटो

चीन आधारित कंपनियों ने भारतीय क्रिकेट में ही नहीं, भारत में भी बड़ी रकम का निवेश किया है। चाहे वह स्मार्टफोन हो, ऑनलाइन गेमिंग हो या अन्य वित्तीय क्षेत्र हों, चीनियों के पास कई भारतीय ब्रांडों के साथ स्पॉन्सरशिप के सौदे हैं।

कानूनी अड़चनें भी है सामने-

कानूनी अड़चनें भी है सामने-

यदि कोई ब्रांड किसी भी चीनी ब्रांड के साथ साझेदारी को समाप्त करने का फैसला करता है, तो चीनी कंपनी अदालत में दूसरे ब्रांड पर मुकदमा कर सकते हैं और नुकसान की मांग कर सकते हैं।

BCCI के लिए सबसे बड़ी समस्या चीनी कंपनियों की नहीं बल्कि चीन के निवेशकों की है। बीसीसीआई के कई प्रायोजक कंपनियों के पास चीनी से अपने निवेशक हैं। उदाहरण के लिए, बायजू, पेटीएम, वीवो या ड्रीम 11, सभी कंपनियों के निवेशक चीनी हैं। यही कारण है कि चीन के बहिष्कार की स्थिति पूरी तरह से संभव नहीं है।

कोरोना के चलते पहले ही क्रिकेट में वित्तीय स्थिति खराब-

कोरोना के चलते पहले ही क्रिकेट में वित्तीय स्थिति खराब-

BCCI की सबसे बड़ी चिंता विवो से संबंधित है। कंपनी इंडियन प्रीमियर लीग के शीर्षक प्रायोजकों के रूप में सालाना 440 करोड़ रुपये खर्च करती है। कोरोनोवायरस महामारी के साथ, क्रिकेट की वित्तीय स्थिति सही नहीं है, यह बीसीसीआई के सर्वश्रेष्ठ हित में नहीं होगा जो एक ऐसी कंपनी के साथ संबंधों को काट दे जो इस तरह का वित्तीय बढ़ावा दे रही है।

आज ही के दिन भारतीय क्रिकेट को मिला था रोहित शर्मा नाम का धुरंधर, जानिए कैसा रहा सफर

क्या कहते हैं मामले के जानकार लोग-

क्या कहते हैं मामले के जानकार लोग-

विज्ञापन और प्रायोजकों में एक पेशेवर, सैम बलसारा ने हाल ही में मुंबई मिरर से कहा है, "जब तक सरकार भारत में चीनी उत्पादों का निर्माण करने की अनुमति दे रही है, तब तक उन्हें अपना प्रचार करने का अधिकार होगा।"

"चीनी भारत में बड़े निवेशक हैं और इस तरह की अनदेखी करना बीसीसीआई के लिए मुश्किल होगा। मुझे लगता है कि बीसीसीआई यह देखने के लिए इंतजार करेगा कि उपभोक्ता बहिष्कार पर क्या प्रतिक्रिया दे रहे हैं, "बैंगलोर के एक पेशेवर ने कहा।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Tuesday, June 23, 2020, 13:28 [IST]
Other articles published on Jun 23, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X