B'day Special : कभी लगा था गेंद से छेड़छाड़ का आरोप, जानिए सचिन से जुड़े 5 विवाद

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट के लिए आज का दिन यानी कि 24 अप्रैल बेहद खास है। इस दिन क्रिकेटके भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर का जन्म हुआ था जो आज 48 साल के हो गए हैं। सचिन ने ना सिर्फ मैदान पर बड़े रिकाॅर्ड अपन नाम कर सुर्खियां बटोरीं, बल्कि अपने शांत स्वभाव के कारण भी फैंस का दिल जीता है। भारत के सचिन तेंदुलकर बहुत ही सौम्य और शांत खिलाड़ी हैं। इसलिए वह कभी ज्यादा विवादों में नहीं रहे, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनका सचिन के साथ कभी झगड़ा नहीं हुआ। एक समय ऐसा भी आया था जब उनपर गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा था। आइए जानें सचिन से जुड़े 5 विवाद-

हिमाचल में बनेगा दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट स्टेडियम, अटल टनल के पास है स्थित

फरारी को लेकर कर विवाद

फरारी को लेकर कर विवाद

जब तेंदुलकर ने डॉन ब्रैडमैन के 29 टेस्ट शतकों के रिकॉर्ड को तोड़ा, तो फिएट इंडिया ने उन्हें एक उपहार के रूप में एक फरारी दी थी। सरकार को इस पर कर लगाने की जरूरत थी, लेकिन तत्कालीन वित्त मंत्री जसवंत सिंह ने इसे माफ कर दिया। यह नियमों के खिलाफ था और दिल्ली की अदालत में अपील दायर की गई थी। इस मुद्दे को मीडिया ने काफी उठाया। काफी मामला उठने के बाद फिर फिएट इंडिया ने तब कर का भुगतान किया।

रोहित शर्मा ने बताया हार का कारण, बोले- मैं भी बड़े शाॅट नहीं लगा पा रहा था

गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप

गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप

सचिन की छवि साफ रही है, लेकिन एक समय ऐसा भी आया जब उन्हें बदनाम होना पड़ा। उनपर गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा जिस कारण उनपर एक मैच का प्रतिबंध भी लगा दिया गया था। सचिन के साथ यह घटना साल 2001 में घटी थी जब मैच रेफरी माइक डेनिस ने पोर्ट एलिजाबेथ में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान उनपर गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया। डेनिस ने सचिन पर एक मैच का बैन लगाया और उनकी 75 फीसदी मैच फीस भी काट ली। दिलचस्प बात ये रही थी कि मैदानी अंपायरों ने सचिन की शिकायत नहीं की थी। किसी अंपायर को नहीं लगा कि गेंद से छेड़छाड़ हुई है लेकिन मैच रेफरी डेनिस ने सिर्फ टीवी फुटेज देख निर्णय ले लिया था।

सचिन और भारत का झंडा

सचिन और भारत का झंडा

2007 के विश्व कप से पहले, भारतीय टीम जमैका में थी और वहां भारतीय दूतावास में एक कार्यक्रम में, तेंदुलकर ने भारतीय ध्वज के साथ एक केक काटा। तेंदुलकर के खिलाफ इंदौर की एक अदालत में मामला दायर किया गया था। उनके खिलाफ नोटिस भी जारी हुआ। हालांकि बाद में माफी मांगने पर मामला खत्म हो गया।

OMG : खतरनाक बाउंसर से हुए हेलमेट के दो टुकड़े, डर गए सभी पाकिस्तानी खिलाड़ी

बालासाहेब ठाकरे ने दी थी नसीहत

बालासाहेब ठाकरे ने दी थी नसीहत

सचिन को एक बार मुंबई को लेकर बयान देना इतना भारी पड़ा कि शिवसेना के प्रमुख रहे बालासाहेब ठाकरे ने उनको चुप रहने की नसीहत तक दे दी थी। दरअसल सचिन से मीडिया द्वारा गया था कि क्या मुंबई मराठियों की है? इसका जवाब देते हुए सचिन ने कहा था- मुंबई भारतीयों की है। मैं एक मराठी हूं। महाराष्ट्रियन हूं और मुझे इस पर गर्व है लेकिन इससे पहले मैं भारतीय हूं और मुंबई पर सभी का हक है। मुंबई सभी की है। सचिन के इस बयान का जवाब देते हुए बालासाहेब ने कहा था- सचिन राजनीति की पिच पर मत खेलो, तुम केवल क्रिकेट की पिच पर खेलो।

मंकीगेट का मामला

मंकीगेट का मामला

हरभजन सिंह को ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के एंड्रयू साइमंड्स ने मंकी कहकर पुकारा था। साइमंड्स पर नस्लवाद का आरोप लगाया गया था। लेकिन रिकी पोंटिंग और हेडन के आरोपों के बाद हरभजन को तीन मैचों के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था, लेकिन तब तेंदुलकर ने हरभजन की तरफ से गवाही दी और उन्हें बचाया। इसलिए तेंदुलकर पर झूठ बोलने का आरोप लगाया गया था।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Saturday, April 24, 2021, 9:36 [IST]
Other articles published on Apr 24, 2021
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Yes No
Settings X