Cricket History: जब 2 रन से विश्व रिकॉर्ड बनाने से चूक गये थे सुनील गावस्कर

नई दिल्ली। क्रिकेट इतिहास में हर दिन कुछ न कुछ खास लेकर आता है लेकिन भारतीय क्रिकेट के इतिहास में 4 सितंबर वो दिन है जब पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने विश्व क्रिकेट पर अपना नाम लहराया था। 1979 में जब भारतीय टीम इंग्लैंड के दौरे पर थी तो केनिंगटन ओवल के मैदान पर सुनील गावस्कर ने अपनी शानदार बल्लेबाजी से इंग्लैंड के गेंदबाजों को परेशान कर दिया था। हालांकि चौथी पारी में खेलते हुए गावस्कर विश्व रिकॉर्ड बनाने से केवल 2 रन से चूक गये थे। इस मैच में गावस्कर की पारी के दम पर भारतीय टीम जीत की दहलीज पर पहुंची थी हालांकि उसे ड्रॉ से ही संतोष करना पड़ा था।

उल्लेखनीय है कि सीरीज का पहला टेस्ट मैच गंवाने के बाद भारतीय टीम अगले दो टेस्ट मैच ड्रॉ करा कर ओवल खेलने पहुंची थी जहां पर उसके सामने 438 रनों का विशाल और मुश्किल लक्ष्य था। उस वक्त शायद ही किसी को अंदाजा होगा कि भारतीय टीम पांचवे दिन इस मैच को जीत से महज 9 रन पहले ड्रॉ पर खत्म करेगी।

IPL 2020: दिल्ली कैपिटल्स से जुड़ा 20 मैच में 50 विकेट लेने वाला युवा गेंदबाज

हालांकि यह सब संभव हो पाया चौथी पारी में सुनील गावस्कर की ओर से खेली गयी 221 रनों की पारी की बदौलत जो कि किसी भी भारतीय खिलाड़ी की ओर से आखिरी पारी में लगाया गया सर्वोच्च स्कोर था। हालांकि वह वेस्टइंडीज के जार्ज हेडली की ओर से बनाये गये 223 रनों के विश्व रिकॉर्ड को तोड़ने से महज 3 रन से चूक गये थे। हेडली ने यह पारी 1930 में इंग्लैंड के खिलाफ किंग्सटन में ही खेली थी। यह रिकॉर्ड आज भी हेडली के नाम पर है। जबकि न्यूजीलैंड के नाथन एस्टल ने 2002 में क्राइस्टचर्च में इंग्लैंड के खिलाफ 222 रन बनाकर गावस्कर को पीछे छोड़ दिया था।

CPL 2020: सेमीफाइनल के लिये तय हो गई यह 4 टीमें, बाहर हुई मौजूदा चैम्पियन बारबाडोस

8 घंटे 10 मिनट तक क्रीज पर टिके रहे सुनील गावस्कर

8 घंटे 10 मिनट तक क्रीज पर टिके रहे सुनील गावस्कर

गावस्कर अपनी इस पारी के दौरान आठ घंटे 10 मिनट तक क्रीज पर रहे और उन्होंने 443 गेंदों का सामना करके 21 चौके लगाये। भारत ने जिन तीन अवसरों पर चौथी पारी में 400 या इससे अधिक रन बनाये, उनमें से दो मौकों पर गावस्कर ने शतक लगाया और पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी ने ओवल की पारी के बहाने उनके इस प्रदर्शन को याद किया।

बेदी ने ट्विटर पर लिखा, ''पूरी विनम्रता के साथ.... भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसने चौथी पारी में तीन अवसरों पर 400 से अधिक रन बनाए, जिसमें से एक मैच ड्रॉ रहा। एक में उसे हार मिली और एक में जीत। यह जरूरी नहीं कि यह क्रम में हो। और 'ऑरिजनल लिटिल मास्टर (गावस्कर) ने तीनों में अहम भूमिका निभाई थी।

वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाया था बड़ा रिकॉर्ड

वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाया था बड़ा रिकॉर्ड

गौरतलब है कि भारत ने 1976 में वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में जब 403 रन के रिकॉर्ड लक्ष्य को हासिल किया था तब गावस्कर ने 102 रन की पारी खेली थी लेकिन 1978 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में 493 रन के लक्ष्य के सामने भारत के 445 रन में यह सलामी बल्लेबाज 29 रन का योगदान ही दे पाया था। ओवल में हालांकि गावस्कर ने टीम को लक्ष्य के करीब पहुंचा दिया था, लेकिन उनके आउट होते ही भारतीय पारी ढह गई और उसने आखिर में आठ विकेट पर 429 रन बनाकर बमुश्किल मैच ड्रॉ कराया।

गावस्कर और चेतन चौहान ने चौथे दिन भारत का स्कोर बिना किसी नुकसान के 76 रन पर पहुंचाया। इस तरह से भारत को पांचवें दिन जीत के लिए 362 रन बनाने थे। पांचवें दिन लंच तक स्कोर बिना किसी नुकसान के 169 रन हो गया। ये दोनों बल्लेबाज दूसरे सत्र में इसे 213 रन तक ले गए। चौहान इस स्कोर पर 80 रन बनाकर आउट हुए।

विजडन ने भी की थी तारीफ

विजडन ने भी की थी तारीफ

इसके बाद गावस्कर और दिलीप वेंगसरकर (52) स्कोर को 366 रन तक ले गए। भारत लक्ष्य से 76 रन दूर था। वेंगसरकर के आउट होने के बाद गुंडप्पा विश्वनाथ की जगह कपिल देव आए जो खाता भी नहीं खोल पाए।

विजडन ने तब लिखा था, 'विश्वनाथ के पांचवें विकेट गिरने तक क्रीज पर नहीं आने से अधिकतर लोग हैरान थे। उनके देर से आने के कारण भारत जीत से वंचित हो गया था।'

हेडली का रिकॉर्ड तोड़ने से चूक गये थे गावस्कर

हेडली का रिकॉर्ड तोड़ने से चूक गये थे गावस्कर

जब भारत का स्कोर 389 रन था तो इयान बॉथम अपना अगला स्पैल के लिए आये। इससे पहले गावस्कर ने पानी मंगवाया।

जॉन वुडकॉक ने 'द क्रिकेटर' में लिखा, 'यह उनकी दिन की पहली गलती हो सकती है। इससे उनकी एकाग्रता भंग हो गई थी। गावस्कर भले ही हैडली के विश्व रिकॉर्ड से चूक गये थे लेकिन चौथी पारी में सर्वोच्च स्कोर का भारतीय रिकॉर्ड अब भी उनके नाम पर है। उनसे पहले यह रिकॉर्ड विजय हजारे (122 बनाम वेस्टइंडीज, मुंबई 1949) के नाम पर था। गावस्कर के बाद भारतीय बल्लेबाजों में केएल राहुल (149), वेंगसरकर (नाबाद 146), विराट कोहली (141) और सचिन तेंदुलकर (136) का नंबर आता है।

For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Friday, September 4, 2020, 22:36 [IST]
Other articles published on Sep 4, 2020
POLLS
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X