IND vs SA: 3 कारण जिसके चलते BCCI ने छीनी कोहली से वनडे की कप्तानी, अब रोहित संभालेंगे कमान

नई दिल्ली। भारत और साउथ अफ्रीका के बीच 26 दिसंबर से खेली जाने वाली 3 मैचों की टेस्ट सीरीज के लिये भारतीय चयन समिति ने बुधवार को 18 सदस्यीय टीम का ऐलान किया। टीम के ऐलान के साथ चयन समिति ने वनडे प्रारूप में विराट कोहली से टीम की कप्तानी को छीन कर रोहित शर्मा को पूरी तरह से सीमित ओवर्स प्रारूप की जिम्मेदारी देने का फैसला भी किया। चयनकर्ताओं के इस फैसले को लेकर काफी मिक्स्ड रिएक्शन देखने को मिल रहे हैं, जहां एक ओर कुछ फैन्स इस पर खुशी जता रहे हैं तो वहीं पर कुछ उस सवाल का जवाब जानने की कोशिश कर रहे हैं जिसकी वजह से बीसीसीआई ने विराट कोहली को उनकी वनडे प्रारूप की कप्तानी से हटाने का फैसला किया। उल्लेखनीय है कि विराट कोहली ने यूएई में खेले गये आईपीएल 2021 के दौरान पहले भारत की टी20 प्रारूप की कमान छोड़ने का ऐलान किया था तो वहीं पर आरसीबी की टीम की कप्तानी छोड़ने का भी फैसला किया।

और पढ़ें: IND vs SA: टी20 के बाद अब वनडे प्रारूप के कप्तान बने रोहित शर्मा, विराट कोहली से छिनी कमान

हालांकि इस दौरान जब फैन्स तक यह खबर पहुंची तो दोनों ही बार खुद कोहली ने इसकी जानकारी दी, साथ में ही विराट कोहली ने यह भी साफ किया कि वो वर्कलोड को मैनेज करने के लिये यह फैसला कर रहे हैं और भारत के लिये वनडे और टेस्ट प्रारूप की कप्तानी करते रहेंगे। इस बीच बुधवार को जब टीम का ऐलान किया गया तो उसमें विराट कोहली को कप्तानी से हटाने और रोहित शर्मा को नया कप्तान बनाने के बीच सिर्फ एक लाइन का बयान सामने आया। ऐसे में यह बड़ा सवाल उठता है कि आखिरकार किस वजह से बीसीसीआई ने विराट कोहली को कप्तानी से हटाने का फैसला किया-

और पढ़ें: IND vs SA: साउथ अफ्रीका दौरे पर रहाणे का हुआ डिमोशन, BCCI ने टेस्ट सीरीज के लिये किया भारतीय टीम का ऐलान

आईसीसी टूर्नामेंट में भारत की नाकामी

आईसीसी टूर्नामेंट में भारत की नाकामी

बतौर वनडे कप्तान विराट कोहली के रिकॉर्ड की बात करें तो वो बेहद शानदार रहा है जिसमें उन्होंने 95 मैचों में भारतीय टीम की कमान संभालकर उसे 65 मैचों में जीत दिलाई। इस दौरान उसे 27 मैचों में हार का सामना करना पड़ा, जिसकी वजह से उनका जीत प्रतिशत 70.43 का है। इस प्रारूप में कोहली का जीत प्रतिशत विश्वकप विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (59.52) और कपिल देव (54.16) से भी बेहतर रहा है। कोहली की कप्तानी में भारत ने 19 द्विपक्षीय सीरीज खेली हैं और 15 में जीत हासिल की है। इस दौरान उनकी कप्तानी वाली टीम ने साउथ अफ्रीका, वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर ऐतिहासिक सीरीज में जीत दर्ज की।

हालांकि इतनी कामयाबी के बावजूद विराट कोहली के पक्ष में जो बात नहीं गई वो थी आईसीसी टूर्नामेंट में टीम को लगातार मिल रही नाकामी, साल 2016 में जब विराट कोहली ने टीम की कमान संभाली उसके बाद से वो दो बार वनडे प्रारूप के आईसीसी टूर्नामेंट (चैम्पियन्स ट्रॉफी 2017 और 2019 विश्व कप) का हिस्सा रह चुके हैं और दोनों में बार ही भारत को हार का सामना करना पड़ा, जबकि एशिया कप 2018 में भारत को रोहित शर्मा की कप्तानी में जीत मिली है। ऐसे में मल्टी नेशन टूर्नामेंट में कोहली की कप्तानी में जीत का आंकड़ा शून्य रहा है जो कि उनकी कप्तानी जारी रखने के फैसले का विरोध करता नजर आया।

रोहित शर्मा के बढ़ते कद ने भी पैदा की मुश्किल

रोहित शर्मा के बढ़ते कद ने भी पैदा की मुश्किल

विराट कोहली ने पहले ही साफ किया था कि वो 2023 के वनडे विश्वकप तक टीम की कमान संभालना चाहते हैं, हालांकि बीसीसीआई के इस फैसले ने साफ कर दिया है कि वो सीमित ओवर्स प्रारूप की कप्तानी में सिर्फ ओवर्स की संख्या बदलने की वजह से कप्तान बदलने की ओर नहीं देखना चाह रही है। विराट कोहली के लिये कप्तानी जारी न रख पाने के फैसले के पीछे दूसरी बड़ी वजह उपकप्तान रोहित शर्मा का बढ़ता कद भी बनी, जिन्होंने पिछले कुछ सालों में सीमित ओवर्स प्रारूप की कप्तानी में जबरदस्त प्रदर्शन किया है। भारत की ओर से कप्तानी करते हुए पहले निदाहास ट्रॉफी, एशिया कप, 5 आईपीएल खिताब और फिर कीवी टीम को टी20 सीरीज में क्लीन स्वीप कर रोहित शर्मा ने अपने नेतृत्व की क्षमता को बार-बार साबित किया है।

वहीं पर विराट कोहली के लिये चैम्पियन्स ट्रॉफी, टी20 विश्वकप, वनडे विश्वकप, विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप और आईपीएल का एक भी खिताब न जीत पाना उनकी कप्तानी पर लगातार सवालिया निशान उठाता नजर आया, इतना ही नहीं बीसीसीआई ने टेस्ट प्रारूप में भी रोहित को उपकप्तान की जिम्मेदारी सौंपी है, जो कि कप्तानी में उनके बढ़ते कद की ओर इशारा करता है। यही वजह है कि बीसीसीआई ने रोहित शर्मा को बढ़ते कद को मौका देने का फैसला किया और उन्हें टीम की कमान सौंप दी।

नये कप्तान के साथ नये अध्याय की शुरुआत

नये कप्तान के साथ नये अध्याय की शुरुआत

भारत के लिये आईसीसी टूर्नामेंट में खिताब न जीत पाने का सिलसिला 8 सालों से चला आ रहा है। इस दौरान ऐसा नहीं रहा है कि भारतीय टीम का प्रदर्शन बेहद खराब रहा हो, उसने लगभग हर टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन इन टूर्नामेंट के दौरान जब भी नॉकआउट स्टेज पर उससे सबसे ज्यादा जरुरत हुई तो उसे हार का सामना करना पड़ा। इसी को देखते हुए जब बीसीसीआई ने 2019 में रवि शास्त्री के नेतृत्व वाले टीम मैनेजमेंट का करार रिन्यू किया तो सिर्फ 2020 टी20 विश्वकप तक ही देखने का विचार किया। हालांकि कोरोना वायरस के संक्रमण ने इस टीम मैनेजमेंट को एक साल अतिरिक्त दे दिया, लेकिन बावजूद इसके जब वो नाकाम रही तो बोर्ड ने नये सिरे से काम करने का विचार किया।

इसी वजह से उसने मैनेजमेंट में विक्रम राठौर को छोड़कर किसी के करार को रिन्यू नहीं किया और जब राहुल द्रविड़ के नेतृत्व वाली मैनेजमेंट ने कमान संभाली तो उसे रोहित शर्मा के साथ काम करने का मौका दिया। बीसीसीआई जल्द से जल्द आईसीसी खिताब के सूखे को खत्म करना चाहता है, जिसके चलते वह नये कप्तान और कोच के साथ भारतीय क्रिकेट की नई शुरुआत करना चाहता है ताकि सीमित ओवर्स प्रारूप में उसे किसी भी पुरानी दिक्कतों का सामना न करना पड़े।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

Story first published: Wednesday, December 8, 2021, 22:43 [IST]
Other articles published on Dec 8, 2021

Latest Videos

    + More
    POLLS
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Yes No
    Settings X