world cup 2019: भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट, खेल नहीं जंग हैं क्यों ?

By Ashok Kumar Sharma
sarfraz ahmed

नई दिल्ली। भारत-पाकिस्तान में क्रिकेट की लोकप्रियता दिवानगी की हद तक है। लेकिन दोनों देशों की राजनीति कटुता हमेशा क्रिकेट पर भारी पड़ी है। 1965 के युद्ध में पाकिस्तान की हार के बाद नफरत की आग इतनी भड़क गई कि 18 साल तक भारत-पाकिस्तान के बीच कोई क्रिकेट मैच नहीं हुआ। 1977 में जब जनता पार्टी की सरकार आयी तो उस दौर में क्रिकेट संबंध बहाल हुआ। 1999 में कारगिल युद्ध(Kargil War) के बाद एक बार फिर दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट(Cricket) बंद हुआ। 2008 में मुम्बई पर आतंकी हमले के बाद से द्विपक्षीय सीरीज आज तक बंद है। चूंकि भारत का बंटवारा भयंकर खून-खराबे के बीच हुआ था इस लिए शुरू से ही लिए घृणा और विद्वेष की राजनीति ने जड़ जमा लिया। भारत(India) से किसी भी चीज में पिछड़ना पाकिस्तान(Pakistan) तौहीन समझता था। वह युद्ध की हार को भुलाने के लिए वह कम से कम क्रिकेट में जीतना चाहता था। जैसे ही पाकिस्तान को टेस्ट नेशनल का दर्जा मिला तो उसने सबसे पहले भारत से ही मुकाबला करना पसंद किया।

1952 में पहली बार भारत आई पाकिस्तानी टीम

1952 में पहली बार भारत आई पाकिस्तानी टीम

अब्दुल हाफीज कारदार के नेतृत्व में पाकिस्तान की टीम 1952 में टेस्ट सिरीज खेलने के लिए भारत आई। पाकिस्तान की टीम कारदार, आमिर इलाही और गुल मोहम्म्द ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने भारत के लिए टेस्ट खेला था। उस समय भारत की टीम बहुत मजबूत थी। उस समय लाला अमरनाथ भारतीय टीम के कप्तान थे। लाला अमरनाथ को आज भी विश्व के सर्वकालिक श्रेष्ठ कप्तानों में एक माना जाता है। वे जितने बेहतरीन खिलाड़ी थे उतने ही तेज दिमाग कप्तान भी थे। टेस्ट मैचों में शतक लगाने वाले वे पहले भारतीय क्रिकेटर हैं। इसके अलावा महान ऑलराउंडर विनू मांकड़, दिग्गज स्पिनर गुलाम अहमद, धांसू बल्लेबाज विजय मर्चेंट, पाली उमरीगर और विजय मांजरेकर भारतीय टीम की शान थे। दूसरी तरफ पाकिस्तान की टीम में फजल महमूद और खान मोहम्मद जैसे तेज गेंदबाज थे। नजर मोहम्मद, हनीफ मोहम्मद और कारदार जैसे मंझे हुए बल्लेबाज भी थे।

IPL 2019 : प्लेऑफ मैचों के लिए बदला गया समय, जानिए कब और किसके बीच होगी टक्कर

पहले ही टेस्ट में हार गया था पाकिस्तान

पहले ही टेस्ट में हार गया था पाकिस्तान

पहला टेस्ट मैच दिल्ली में खेला गया। पहले ही टेस्ट में भारत ने पाकिस्तान को एक पारी और 70 रनों से हरा दिया। इस हार से पाकिस्तान में भूचाल आ गया। भारत ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी की। विजय हजारे के 76 और हेमू अधिकारी के 81 रनों की बदौलत भारत ने पहली पारी में 371 रनों का स्कोर खड़ा किया। इसके जवाब में पाकिस्तान की पहली पारी केवल 150 रनों पर ढेर हो गयी। विनू मांकड़ ने 47 ओवरों में 52 रन देकर आठ विकेट झटके। अकेले मांकड़ ने पाकिस्तान का बंटाधार कर दिया। दूसरी पारी में भी पाकिस्तान की टीम 152 पर ढह गयी। विनू मांकड़ ने एक बार फिर अपनी स्पिन गेंदबाजी का कमाल दिखाया और पांच विकेट झटके। चार विकेट गुलाम अहमद को मिले। इस तरह पाकिस्तान अपना पहला टेस्ट मैच एक पारी और 70 रनों से हार गया। दूसरा टेस्ट मैच लखनऊ में हुआ। पाकिस्तान ने जबर्दस्त पालटवार किया। उसने भारत को एक पारी और 43 रनों से हरा दिया। तेज गेंदबाज फजल महमूद की घातक गेंदबाजी और नजर मोहम्मद के शतक से पाकिस्तान, भारत पर भारी पड़ गया। यह टेस्ट मैटिंग विकेट पर खेला गया था जिस पर फजल महमूद वे कहर बरपा दिया। भारत की पहली पारी केवल 106 पर सिमट गयी। फजल ने पांच विकेट लिये। जवाब में पाकिस्तान ने नजर मोहम्मद के शतक के दम पर 331 रनों का स्कोर खड़ा किया। भारत की दूसरी पारी भी बिखर गयी और केवल 182 पर ही बने। फजल महमूद ने सात विकेट लेकर भारत की कमर तोड़ दी। इस तरह भारत एक पारी और 43 रनों से हार गया।

भारत की वापसी

भारत की वापसी

लखनऊ टेस्ट में हार के बाद भारत ने फिर वापसी की। मुम्बई के तीसरे टेस्ट में पाकिस्तान को हरा कर भारत ने सिरीज पर 2-1 से कब्जा कर लिया। दो टस्ट मैच ड्रॉ रहे थे। मुम्बई टेस्ट में लाला अमरनाथ ने चार और विनू मांकड़ ने तीन विकेट लेकर पाकिस्तान को 186 रनों पर ही रोक दिया। इसके जवाब में भारत ने विजय हजारे के 146 और पॉली उमरीगर के 102 रनों की बदौलत चार विकेट पर 387 रन बनाये और पारी समाप्ति की घोषणा कर दी। पाकिस्तान की दूसरी पारी में हनीफ मोहम्मद के 96 और वकार हसन 65 रन मुख्य आकर्षण रहे। पूरी टीम 242 पर ऑल आउट हो गयी। विनू मांकड़ ने एक बार पांच पांच विकेट लिये। अब भारत की जीत के लिए केवल औपचारिकता बची थी। बिना विकेट खोये भारत ने 45 रन बना कर यह टेस्ट मैच दस विकेट से जीत लिया।

IPL 2019 : सनराइजर्स हैदराबाद के नाम दर्ज हुआ अनोखा रिकाॅर्ड, इससे पहले कभी नहीं हुआ ऐसा

हार से डरे पाकिस्तान का ध्यान केवल ड्रॉ पर

हार से डरे पाकिस्तान का ध्यान केवल ड्रॉ पर

भारत से पहला टेस्ट सिरीज हार जाने के बाद पाकिस्तान में बहुत बवाल हुआ। क्रिकेट खिलाड़ियों से बदसलूकी की गयी। तब से पाकिस्तान के क्रिकेटर हमेशा दबाव में रहने लगे। वे अपनी पूरी ताकत केवल इसी बात में लगाते रहे कि मैच किसी तरह ड्रॉ हो जाए। भारत की टीम पहली बार 1954-55 में पाकिस्तान गयी। पाकिस्तान ने धीमी बल्लेबाजी की रणनीति अपनायी। पेशावर टेस्ट के पहले दिन पाकिस्तान ने पूरे दिन बल्लेबाजी की, करीब 100 ओवर खेले लेकिन रन बनाये सिर्फ 129 रन। छह विकेट भी गिरे। इस सिरीज में पांच टेस्ट मैच खेले गये और सभी ड्रॉ रहे। 1960-61 में पाकिस्तान की टीम दूसरी बार भारत आयी। इस सिरीज के भी सभी पांचों टेस्ट मैच ड्रॉ रहे।

18 साल बाद भारत- पाकिस्तान में क्रिकेट

18 साल बाद भारत- पाकिस्तान में क्रिकेट

1965 के युद्ध में पाकिस्तान हार गया था। इसके नतीजे में दोनों देशों के बीच क्रिकेट बंद हो गया। 1978 में बिशन सिंह बेदी के नेतृत्व में भारत की टीम पाकिस्तान गयी। भारत की तरफ से केवल सुनील गावस्कर ने ही अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप बल्लेबाजी की। उन्होंने तीसरे टेस्ट की दोनों पारियों में शतक लगाया। उन्होंने कुल छह पारियों में 89, 8 नाबाद, 5, 97, 111, 137 रन बनाये। लेकिन पाकिस्तान इमरान खान और सरफराज नवाज की तेज गेंदबाजी की बदौलत भारत पर भारी पड़ गया दोनों ने मिल कर सिरीज में 31 विकेट लिये। आखिरी टेस्ट में तो इमरान ने अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से अकेले ही जीत दी। भारत यह सिरीज 2-0 से हार गया। एक टेस्ट ड्रा हुआ था।

IPL 2019 : मैच के बाद अपनी बेटी के साथ खेलते नजर आए रोहित शर्मा, वीडियो हुआ वायरल

1979-80 में भारत ने बदला लिया

1979-80 में भारत ने बदला लिया

भारत ने 1978 का बदला एक साल बाद ही ले लिया। 1979 में आसिफ इकबाल के नेतृत्व में पाकिस्तान की टीम भारत आयी। इस टीम में इमरान खान, जहीर अब्बास, जावेद मियांदाद अब्दुल कादिर जैसे धुरंधर खिलाड़ी थे। लेकिन सुनील गावस्कर की कप्तानी में भारत ने कमाल का खेल दिखाया। छह टेस्ट मैचों की सिरीज को भारत ने 2-0 से जीत लिया। 4 टेस्ट ड्रॉ हुए थे। गावस्कर और कपिल देव ने इस सिरीज में शानदार प्रदर्शन किया था। इसका बदला पाकिस्तान ने 1982-83 में लिया। भारतीय टीम पाकिस्तान गयी। पाकिस्तान ने तीन शून्य से यह सिरीज जीत ली। 1984 में पाकिस्तान की टीम भारत आयी। यह सिरीज भी ड्रॉ रही। 1986-87 में पाकिस्तान की टीम भारत आयी। पांच में पहले चार टेस्ट ड्रॉ रहे। अंतिम बेंगलुरु टेस्ट में था। पाकिस्तान हारते हारते जीत गया। पाकिस्तान 1-0 से सिरीज जीत गयी। 1989-90 भारत की टीम पाकिस्तान गयी। इस दौरे में सचिन तेंदुलकर भारत की खोज साबित हुए। चार टेस्ट मैच खेले गये लेकिन किसी का नतीजा नहीं निकला। 1990 के बाद राजनीतिक तनाव की वजह से फिर क्रिकेट बाधित हुआ। 1997-98 में किसी तरह वनडे सिरीज का आयोजन हुआ। जिसमें पाकिस्तान 2-1 से जीत गया। 1998-99 में पाकिस्तान की टीम फिर भारत आयी। भारत और पाकिस्तान को एक-एक टेस्ट में जीत मिली। सिरीज ड्रॉ रही।

2003-04 में भारत ने पाकिस्तान में पहली बार श्रृंखला जीती

2003-04 में भारत ने पाकिस्तान में पहली बार श्रृंखला जीती

सौरभ गांगुली भारत के वह कप्तान हैं जिन्होंने पाकिस्तान में जा कर पहली बार कोई टेस्ट श्रृंखला जीती। इतना ही नहीं गांगुली की कप्तानी भारत ने पहली बार पाकिस्तान को उसके घर में एकदिवसीय मैचों में भी पराजित किया। 2003-04 में भारत का पाकिस्तान दौरा ऐतिहासिक महत्व रखता है। इस दौरे में वीरेन्द्र सहवाग 309 रनों की पारी खेल कर मुल्तान का सुल्तान बने थे। राहुल द्रविड़ ने 270 रनों की यादगार पारी खेली थी। भारत ने 2-1 से टेस्ट श्रृंखला, जब कि वन डे सिरीज 3-2 से जीती थी। 2004-05 में पाकिस्तान भारत आया। एक -एक टेस्ट जीत कर दोनों फिर बराबरी पर रहे। 2005-06 में भारत की टीम पाकिस्तान गयी। पाकिस्तान ने एक टेस्ट मैच जीत कर सिरीज पर कब्जा कर लिया। लेकिन वनडे सिरीज में भारत ने वापसी कि 4-1 से श्रृंखला जीत ली। इसके बाद 2008 में मुम्बई पर पाकिस्तानी आंतकियों ने हमला कर दिया। तब से भारत और पाकिस्तान में द्विपक्षीय सिरीज बंद है। विश्वकप या दूसरे टूर्नामेंट में दोनों देशों के बीच मैच होते रहे हैं।

For Quick Alerts
Subscribe Now
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
 

क्रिकेट से प्यार है? साबित करें! खेलें माईखेल फेंटेसी क्रिकेट

Story first published: Monday, May 6, 2019, 13:04 [IST]
Other articles published on May 6, 2019
POLLS

MyKhel से प्राप्त करें ब्रेकिंग न्यूज अलर्ट

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Mykhel sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Mykhel website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more